White House will not cooperate in impeachment investigation against Trump - ट्रंप के खिलाफ महाभियोग जांच में सहयोग नहीं करेगा व्हाइट हाउस DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग जांच में सहयोग नहीं करेगा व्हाइट हाउस

trump in howdy mody

व्हाइट हाउस ने कांग्रेस के डेमोक्रेट सदस्यों की ओर से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ शुरू महाभियोग जांच को आधारहीन और गैर संवैधानिक करार देते हुए सहयोग करने से इनकार कर दिया। जांच का मकसद यह पता लगाना है कि क्या ट्रंप ने यूक्रेन को पूर्व अमेरिकी उपराष्ट्रपति जो बाइडेन के खिलाफ जांच करने को कहा था।  जो 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर नामांकन हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं। 

संवाददाताओं से बातचीत में व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच पूरी तरह राजनीतिक और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पलटने की कोशिश है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने कुछ भी गलत नहीं किया है।  डेमोक्रेट भी यह जानते हैं। पूरी तरह से राजनीतिक कारणों से डेमोक्रेट सांसदों ने 2016 के चुनाव के नतीजों को पलटने का फैसला किया है। ताकि वह हर अमेरिकी को प्राप्त बुनियादी अधिकारों की उपेक्षा करते हुए तथाकथित महाभियोग की जांच कर सकें। ग्रिशम ने कहा कि यह पक्षपातपूर्ण कार्रवाई संविधान के लिए अपमानजनक है, क्योंकि ये कार्रवाई बंद कमरे में हो रही है। इसमें राष्ट्रपति को गवाह बुलाने की, गवाहों से जिरह की इजाजत नहीं दी गई। उन्हें सबूत नहीं दिखाए गए। इसके अलावा कई बुनियादी अधिकारों से उन्हें वंचित रखा गया।

डेमोक्रेट नेताओं को भेजा पत्र

व्हाइट हाउस के अधिवक्ता पेट सिपोलोन ने डेमोक्रेट नेताओं को एक पत्र भेजा है। इसकी प्रति मीडिया को जारी की है। पत्र पर आठ अक्टूबर की तारीख दर्ज है। इसमें कहा गया है कि विपक्ष की गतिविधियों ने राष्ट्रपति के पास कोई विकल्प नहीं छोड़ा है। राष्ट्रपति ट्रंप और उनका प्रशासन पक्षपातपूर्ण और असंवैधानिक जांच में शामिल नहीं हो सकते हैं। ट्रंप का पूरा ध्यान अमेरिकी जनता से किए वादों को पूरा करने पर है। 

ट्रंप अराजकता को सही बताने की कोशिश कर रहे : नैंसी

व्हाइट हाउस की चिट्ठी पर प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिकी कांग्रेस के निम्न सदन प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पलोसी ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप अराजकता को सही बताने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिकी लोगों ने राष्ट्रपति की बातें सुनी। उनकी कार्रवाई ने राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाला। संविधान का उल्लंघन किया और हमारे चुनाव की सुचिता को कमतर किया। व्हाइट हाउस की चिट्ठी केवल उनके लोकतंत्र से किए गए धोखे को ढंकने की कोशिश है। वह खुद को कानून से ऊपर मानते हैं। 

यह है पूरा मामला

आरोप है कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से 25 जुलाई को टेलीफोन पर हुई बातचीत में डेमोक्रेटिक पार्टी से अपने प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन के खिलाफ जांच करने को कहा था। अमेरिकी प्रतिनिधिसभा में डेमोक्रेट सदस्य अब यह देख रहे हैं कि क्या यह ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने का आधार बन सकता है। उधर, व्हाइट हाउस के अधिवक्ता पेट सिपोलोन ने राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ आरोपों को खारिज कर दिया। इन्हें निराधार और असंवैधानिक बताया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:White House will not cooperate in impeachment investigation against Trump