DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वेनेजुएला संकट: राष्ट्रपति मादुरो की वफादार सेना हथियारों के साथ कर रही है अमेरिका का इंतजार

Nicolas Maduro

वेनेजुएला में राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के प्रति वफादारी दिखाने के लिए आयोजित सेना के मार्च के दौरान जवानों ने प्रतिबद्धता जतायी कि वे अपने हाथों में हथियारों के साथ अमेरिका की प्रतीक्षा कर रहे हैं। मादुरो के अरागुआ राज्य के शुक्रवार (17 मई) के दौरे के दौरान इस मार्च का आयोजन किया गया था। परेड के दौरान सैन्य कर्मियों ने चिल्लाते हुए कहा,“लड़ने वालों का अधिकार है। तुम मेरे देश पर कभी आक्रमण नहीं करोगे। हमारे बारे में सुनो। हम छोटे ग्रिंगो हैं। हम तैयार हैं। हमारे हाथों में हथियार हैं। हम तुम्हारा इंतजार कर रहे हैं।”

मादुरो ने सेना के जवानों और सैन्य उपकरणों के साथ एक मील से अधिक दूरी तक मार्च किया। परेड के दौरान राष्ट्रपति ने उत्कृष्ट सेवा के लिए जवानों को पुरस्कार भी दिए और अमेरिकी साम्राज्यवाद के खिलाफ भाषण भी दिया। वेनेजुएला में जनवरी से ही स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है क्योंकि विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो ने खुद को अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर दिया था।

वेनेजुएला संकट: जुआन ग्वाइदो ने मांगी अमेरिकी सेना से मदद, निकोलस मादुरो के तख्तालपट की कोशिश

इसके बाद अमेरिका और इसके सहयोगी देशों ने गुआइदो को मान्यता देते हुए मादुरो से पद से हट जाने को कहा था। अमेरिकी अधिकारियों ने बार-बार कहा है कि वेनेजुएला संकट के समाधान के लिए सैन्य कार्रवाई से लेकर तमाम विकल्प खुले हुए हैं। मादुरो ने अमेरिका पर पलटवार करते हुए श्री गुआइदो को अपने कठपुतली के रूप में स्थापित करने और वेनेजुएला के प्राकृतिक संसाधनों पर कब्जा करने की नीयत से तख्तापलट करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

ल्लेखनीय है कि वेनेजुएला में हजारों लोग मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इन विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व नेशनल असेंबली के स्पीकर जुआन गुआइदो कर रहे हैं। जनवरी की शुरुआत में मादुरो ने राष्ट्रपति के तौर पर अपने दूसरे कार्यकाल की शपथ ली थी। हाल में संपन्न हुए चुनावों में उन पर गड़बड़ी करने के आरोप लगे थे। विपक्षी नेता जुआन गुआइदो ने 30 अप्रैल को काराकस के ला कारलोटा सैन्य अड्डे से एक विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए वेनेजुएला की सेना और लोगों से सड़कों पर उतर कर मौजूदा राष्ट्रपति मादुरो को सत्ता से बेदखल करने का आह्वान किया था।

वेनेजुएला संकट: मादुरो बोले, पूर्व खुफिया प्रमुख ने की थी तख्तापलट की कोशिश

मादुरो के नेतृत्व में कई वर्षों से वेनेजुएला गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। बढ़ती कीमतों के अलावा खाने-पीने और दवाईयों की कमी के कारण लाखों लोगों ने वेनेजुएला से पलायन भी किया है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक वेनेजुएला के 27 लाख लोगों ने लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई देशों में शरण ली हुई है। मौजूदा राष्ट्रपति मादुरो ने गुआइदो पर अमेरिका की मदद से उन्हें सत्ता से बाहर करने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया है। मादुरो को चीन तथा रूस खुल कर अपना समर्थन दे रहे हैं।

अमेरिका के अलावा अब तक कनाडा, अर्जेंटीना, ब्राजील, चिली, कोलंबिया, कोस्टा रिका, ग्वाटेमाला, होंडुरास, पनामा, पैराग्वे और पेरू समेत 54 देशों ने विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो को वेनेजुएला के अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में मान्यता देने की घोषणा की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Venezuela Crisis Nicolas Maduro loyal Army With Weapons Waiting For US