DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

HIV संक्रमण से निपटने के लिए तैयार हो रहा टीका, जल्द मिलेगी कामयाबी

विशेषज्ञ एचआईवी संक्रमण से निपटने का तरीका ईजाद करने के बेहद करीब हैं। अमेरिका के अटलांटा स्थित इमोरी यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के विशेषज्ञों ने यह दावा किया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि ट्रेग कोशिकाएं एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला से उसके भ्रूण में संक्रमण फैलने से रोकती हैं। यह कोशिकाएं एक तरह की रेगुलेटरी लिंफोसाइट होते हैं।

प्रमुख शोधकर्ता पीटर केसलर का कहना है कि गर्भ में पल रहे भ्रूण में एचआईवी संक्रमण रोकने की वजह का पता लगना बड़ी उपलब्धी है। इससे उन तरीकों को ईजाद करने में आसानी होगी, जिससे प्रतिरोधक क्षमता को प्राकृतिक तौर पर मजबूत बनाने का रास्ता तलाशने में मदद मिलेगी। 

वैज्ञानिक काफी समय से इस बात से हैरान थे कि एचआईवी संक्रमित मां से जन्म लेने वाले शिशुओं के संक्रमित होने की दर काफी कम है। आज की तारीख में एंटीरेट्रोवायरल दवाओं की मदद से एचआईवी संक्रमण को सफलतापूर्वक काबू किया जा सकता है। हालांकि संक्रमित शख्स को आजीवन इन दवाओं का सेवन करना होता है। संक्रमण से बचना बेहद जरूरी है, मगर इसके लिए अभी तक कोई दवा या टीका उपलब्ध नहीं है। 

शोधकर्ताओं ने देखा कि एचआईवी संक्रमित मां से जन्म लेने वाले संक्रमण रहित नवजात के खून में ट्रेग लिंफोसाइट का स्तर अधिक था। इसके विपरीत संक्रमित मां से जन्म लेने वाले संक्रमित शिशुओं ने यह स्तर कम था। लिंफोसाइट प्रतिरोधक तंत्र की वह कोशिकाएं होती हैं, जो शरीर को बैक्टीरिया और वायरस से बचाती हैं। ट्रेग सेल्स या रेगुलेटरी टी सेल्स इम्यून सिस्टम के अपने नियंत्रण का तरीका हैं, जो प्रतिरोधक तंत्र में गंभीर रिएक्शन होने से रोकता है और जिससे ऊतकों को नुकसान हो सकता है।

सिर्फ सक्रिय कोशिकाओं को संक्रमित करता है एचआईवी वायरस

अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने 64 शिशुओं के खून की जांच की, जो एचआईवी संक्रमण से मुक्त थे। उन्होंने एचआईवी संक्रमण के साथ जन्म लेने 28 अन्य शिशुओं के खून की भी जांच की। उन्होंने देखा कि संक्रमण रहित शिशुओं में ट्रेग सेल्स की संख्या अधिक थी। इसके मुकाबले एचआईवी संक्रमित शिशुओं में अन्य लिंफोसाइट के प्रकार सक्रिय और काफी अधिक थे। विशेषज्ञों का कहना है कि एचआईवी वायरस सिर्फ सक्रिय कोशिकाओं को संक्रमित करता है। इसलिए ट्रेग सेल्स अन्य लिंफोसाइट्स को सक्रिय होने से रोककर एचआईवी संक्रमण से बचाया जा सकता है। इस शोध को अमेरिकन सोसाइटी फॉर माइक्रोबायोलॉजी (एएसएम माइक्रोब) की सालाना बैठक में पेश किया गया था।

3 साल की बच्ची के साथ लेस्बियन महिला युगल ने नदी में कूदकर दी जान

डॉक्टर ने एक साल तक महिला से किया बालात्कार, वीडियो बना किया ब्लैकमेल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vaccine to deal with HIV infection will soon get success