DA Image
हिंदी न्यूज़ › विदेश › मजहब के लिए ड्रैगन से लड़ रहे इन लोगों को चीन के हवाले कर सकता है तालिबान
विदेश

मजहब के लिए ड्रैगन से लड़ रहे इन लोगों को चीन के हवाले कर सकता है तालिबान

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Wed, 01 Sep 2021 04:15 PM
मजहब के लिए ड्रैगन से लड़ रहे इन लोगों को चीन के हवाले कर सकता है तालिबान

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद अब तालिबान ने यहां सरकार बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं। अफगानिस्तान में रहने वाले उइगर मुसलमान अब इस बात को लेकर दहशत में हैं कि तालिबान उन्हें चीन के हवाले कर देगा। 'New York Post' से बातचीत करते हुए पाकिस्तान आधारित उमर उइगर ट्रस्ट के अध्यक्ष मोहम्मद उमर ने कहा कि बंद दरवाजे के पीछे तालिबान औऱ चीन के बीच डील चल रही है। जिससे अफगानिस्तान में रहने वाले उइगर सहमे हुए हैं। उन्होंने आगे कहा कि अब तालिबान के हाथों में पूरी सत्ता है। अफगानिस्तान में करीब 2,000 उइगर रहते हैं और सभी को डर सता रहा है कि चीन से डील होने के बाद तालिबान उन्हें चीन को सौंप देगा।

मोहम्मद उमर ने कहा, 'तालिबानी मुस्लिम हैं और हम भी मुसलमान हैं, लेकिन अभी सब कुछ पैसा है और तालिबान को चीन से पैसा मिलता है।' उइगर ट्रस्ट के एक प्रवक्ता अब्दुल अज़ीज़ नासीर ने कहा कि करीब 100 उइगर परिवार अफगानिस्तान में फंसे हुए हैं और मैंने उन्हें वहां से निकालने के लिए कई देशों से संपर्क भी किया लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। मजहब के लिए ड्रैगन से लड़ रहे यह लोग खौफ में हैं।

बता दें कि चीन पर आरोप लगते रहे हैं कि उसने उइगर मुसलमानों को शिनजियांग प्रांत में कैद कर रखा है। चीन पर इस समुदाय के लोगों को प्रताड़ित करने का आरोप भी लगता रहा है। कई सारी रिपोर्ट्स में यह दावा भी किया जाता रहा है कि चीन इनके धार्मिक कार्यों में भी हस्तक्षेप करता है और उनके साथ गुलामों जैसा सलूक करता है। मानवाधिकार से जुड़े कई संगठन यह भी कहते हैं कि चीन उइगर मुसलमानों पर सर्विलांस के जरिए नजर रखता है और इनका इस्तेमाल विभिन्न तरह के प्रयोगों में भी जबरन किया जाता है। हालांकि, ड्रैगन अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से हमेशा ही इनकार करता रहा है।

बता दें कि अमेरिकी सैनिकों के अफगानिस्तान से निकलने के ऐलान के बाद से ही तालिबान ने धीरे-धीरे अफगानिस्तान पर अपना कब्जा जमाना शुरू किया था। 15 अगस्त को तालिबान ने काबुल पर कब्जा जमाया और फिर पूरी तरह से देश को अपने कब्जे में ले लिया। अफगानिस्तान में तेजी से बदल रहे हालात पर इस वक्त पूरी दुनिया की नजर है।

संबंधित खबरें