Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशअशरफ गनी पर लटकी तलवार, पैसों को लेकर जांच करेगी अमेरिकी निगरानी संस्था

अशरफ गनी पर लटकी तलवार, पैसों को लेकर जांच करेगी अमेरिकी निगरानी संस्था

रॉयटर्स,वॉशिंगटनAditya Kumar
Thu, 07 Oct 2021 10:36 AM
अशरफ गनी पर लटकी तलवार, पैसों को लेकर जांच करेगी अमेरिकी निगरानी संस्था

इस खबर को सुनें

अफगानिस्तान पुनर्निर्माण के लिए अमेरिका के विशेष महानिरीक्षक जॉन सोपको ने कहा है कि उनका ऑफिस उन आरोपों की जांच करेगा जिसमें कहा जा रहा है कि अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी ने देश छोड़ते हुए लाखों डॉलर लेकर फरार हुए थे। अगस्त में तालिबान के कारण काबुल छोड़ने को लेकर गनी की दुनियाभर में ख़ासी किरकिरी हुई है।

हालांकि गनी ने कहा है कि वह काबुल की सड़कों पर खून की लड़ाई नहीं देख सकते थे और इसीलिए अफगानिस्तान छोड़ा था। उन्होंने इस बात का खंडन किया था कि वह अपने साथ बड़ी रकम लेकर गए हैं। लेकिन अटकलें अब भी जारी हैं। इसी कड़ी में अमेरिकी कांग्रेस ने इस मामले की जांच कराए जाने की बात कही है। 

सोपको ने हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स की उपसमिति को बताया है कि हम अब तक इसे साबित नहीं कर सके हैं लेकिन हम इसकी जांच कर रहे हैं। दरअसल, ओवरसाइट एंड गवर्नमेंट रिफॉर्म कमेटी ने हमें इस पर गौर करने के लिए कहा है।

अफगानिस्तान पुनर्निर्माण के लिए विशेष महानिरीक्षकअमेरिकी कोशिशों के दौरान सोपोको का ऑफिस लंबे वक्त से अफगानिस्तान में धोखाधड़ी, बर्बादी और दुरुपयोग की जांच कर रहा है। सोपोको ने उपसमिति से कहा है कि बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन को देखते हुए अमेरिकी परियोजना की विफलता पर आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए। भ्रष्टाचार इतना बढ़ गया कि इसने अंततः अफगानिस्तान में सुरक्षा और पुनर्निर्माण मिशन के लिए खतरा पैदा कर दिया। बता दें कि अमेरिका सहित कई अन्य देशों ने अफगानिस्तान को करीब-करीब सभी सहायता बंद कर दी है। 

सोपको ने कहा है कि यह वक्त हम सभी लोगों के लिए मुश्किल भरा हुआ है जो अफगान लोगों की भविष्य की परवाह करते हैं। खास कर वो अफगान लोग जिन्होंने 20 सालों से अमेरिका और उसके सहयोगियों की सहायता की है। उन्होंने बताया है कि स्थानीय रूप से नियोजित अफगान कर्मचारियों सहित SIGAR के सभी कर्मचारियों को काबुल से सुरक्षित निकाल लिया गया है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें