ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशअपने स्टैंड से हटे जो बाइडेन, यूक्रेन को दी बड़ी छूट; खारकीव में अब अमेरिकी हथियार बरपाएगा कहर

अपने स्टैंड से हटे जो बाइडेन, यूक्रेन को दी बड़ी छूट; खारकीव में अब अमेरिकी हथियार बरपाएगा कहर

Ukraine-Russia War: अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, अब यूक्रेन अमेरिकी हथियारों का उपयोग रूस के खिलाफ जवाबी हमले के उद्देश्य से खार्किव में कर सकेगा, ताकि रूसी सेना को पीछे धकेला जा सके।

अपने स्टैंड से हटे जो बाइडेन, यूक्रेन को दी बड़ी छूट; खारकीव में अब अमेरिकी हथियार बरपाएगा कहर
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 31 May 2024 04:52 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपने पुराने रुख से हटते हुए यूक्रेन को इस बात की इजाजत दे दी है कि रूस के खिलाफ चल रहे जंग में अब वह अमेरिका द्वारा भेजे गए हथियारों का इस्तेमाल कर सकेगा। BBC की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अब यूक्रेन अमेरिकी ATACMS मिसाइल का इस्तेमाल खारकीव को रूसी सेना से बचाने के लिए कर सकता है। इस मिसाइल की रेंज 300 किलोमीटर है। US अधिकारियों के मुताबिक, यूक्रेन अमेरिकी हथियारों का उपयोग  "जवाबी हमले के उद्देश्य से" कर सकेगा, ताकि रूसी सेना पर जवाबी हमला किया जा सके और रूसी ठिकाने ध्वस्त हो सके।

अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार, नई नीति के मुताबिक यूक्रेन अब अमेरिकी हथियारों का इस्तेमाल रूसी सेना पर सीधा हमला करने के लिए कर सकता है। हालांकि, इनका इस्तेमाल यूक्रेन की भौगोलिक सीमा के अंदर ही होना चाहिए। एक अमेरिकी अधिकारी ने बीबीसी को यह भी बताया कि "रूस के अंदर आर्मी टैक्टिकल मिसाइल सिस्टम (ATACMS) या लंबी दूरी के हमलों के इस्तेमाल पर रोक लगाने के संबंध में हमारी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है।"

दरअसल, रूसी सीमा से सटे यूक्रेन के शहर खारकीव में पिछले कुछ दिनों से रूस ताबड़तोड़ हमले कर रहा है और वहां यूक्रेनी सैन्य बलों पर बढ़त बनाए हुए है।  शुक्रवार को, यूक्रेनी अधिकारियों ने कहा कि खार्किव शहर के एक उपनगर में एक आवासीय इमारत पर रूसी गोलाबारी में तीन लोग मारे गए, जबकि 16 घायल हो गए हैं। इसे देखते हुए यूक्रेन ने अमेरिका समेत तमाम नाटो देशों से अनुरोध किया था कि उनके द्वारा उपलब्ध कराए गए हथियारों के इस्तेमाल पर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा लिया जाय, ताकि वह रूस को मुंहतोड़ जवाब दे सके।

अमेरिका समेत कई पश्चिमी देशों ने अपने हथियारों के रूस में इस्तेमाल करने पर प्रतिबंध इसलिए लगा दिया था क्योंकि उन्हें डर है कि अगर यूक्रेन ने उनके हथियारों से रूस पर हमला बोला तो रूस इसे अपने ऊपर अमेरिकी हमला मानेगा। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन कई बार चेतावनी दे चुके हैं कि अगर अमेरिका समेत अन्य देशों ने अपने हथियार के इस्तेमाल की इजाजत यूक्रेन को दी तो उसका अंजाम बुरा होगा।