अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PAK को झटका: अमेरिका ने पाक के सैन्य प्रशिक्षण कार्यक्रम में की कटौती

डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवादी संगठनों पर कार्रवाई नहीं करने पर पाकिस्तान को बड़ा झटका दिया है। ट्रंप प्रशासन ने द्विपक्षीय संबंधों के तहत एक दशक से पाकिस्तानी सैन्य अधिकारियों को दिए जाने वाले सैन्य प्रशिक्षण और शैक्षणिक कार्यक्रमों में कटौती शुरू कर दी है। 

आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करने में विफल रहे पाकिस्तानी पर अमेरिका के ट्रंप प्रशासन की सख्ती में लगातार इजाफा हो रहा है। इस साल ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान को अमेरिकी सुरक्षा सहयोग खत्म करने का फैसला लिया था। अब इसके तहत कदम भी उठाए जाने लगे हैं। गौरतलब है कि भारत भी लगातार पाकिस्तान आतंकी गुटों पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाता रहा है। भारत ने इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उठाया है।

वहीं ट्रंप प्रशासन के इस फैसले की अमेरिका और पाकिस्तान के अधिकारियों ने आलोचना की है। अमेरिकी अधिकारियों ने पहचान नहीं जाहिर करने की शर्त पर कहा कि यह फैसला विश्वास बहाली की प्रक्रिया को कमजोर करेगा। वहीं पाकिस्तानी अधिकारियों की तरफ से कुछ ज्यादा ही तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली है। पाकिस्तानी अधिकारियों ने कहा कि इस वजह से उनकी सेना प्रशिक्षण के लिए चीन या रूस की तरफ जा सकती है।

16 करोड़ रुपये खर्च होने थे
अमेरिकी रक्षा विभाग के प्रवक्ता ने भी कहा है कि अमेरिकी सरकार के अंतरराष्ट्रीय सैन्य शिक्षा और प्रशिक्षण कार्यक्रम (आईएमईटी) में कटौती से पाकिस्तान के 66 अधिकारियों को मिलने वाला मौका छीन जाएगा। ऐसी स्थिति में पाकिस्तान के 66 अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए रखी गई जगह को दूसरे देश के अधिकारियों से भर लिया जाएगा या खाली ही रखा जाएगा। आईएमईटी कार्यक्रम पर अमेरिका की ओर से 16.60 करोड़ रुपये खर्च किए जाने थे। इसके साथ दो अन्य कार्यक्रमों पर भी असर पड़ेगा। 

आईएमएफ पर भी पाक को झटका
अमेरिका ने कर्ज से परेशान पाकिस्तान को एक और झटका दिया है। 16 अमेरिकी सांसदों के एक द्विपक्षीय समूह ने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को पत्र लिखकर चीन द्वारा कर्ज लेने वाले देशों को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की ओर से कर्ज नहीं देने को कहा है। इसमें पाकिस्तान भी शामिल है। पाकिस्तान, श्रीलंका और जिबूती ने चीन से अरबों डॉलर का कर्ज ले रखा है। साथ ही ये देश इन कर्जों को लौटाने में असमर्थ है। इसलिए सांसदों ने यह मांग की है। चीन ने बेल्ट रोड इनिशिएटिव कार्यक्रम के तहत इन देशों को विभिन्न परियोजनाओं के लिए कर्ज दे रखा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:United States has suspended funding for Pakistan participation in a key military training program