ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशआतंक को पनाह देने की सजा भुगत रहा पाक, पुलिस वाहन पर हमला; 3 की मौत

आतंक को पनाह देने की सजा भुगत रहा पाक, पुलिस वाहन पर हमला; 3 की मौत

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में शनिवार को एक कथित आतंकी हमले में तीन पुलिसकर्मियों की जान चली गई। इससे पहले बुधवार को भी आतंकी हमला हुआ था जिसकी जिम्मेदारी टीटीपी ने ली थी।

आतंक को पनाह देने की सजा भुगत रहा पाक, पुलिस वाहन पर हमला; 3 की मौत
Ankit Ojhaएएनआई,इस्लामाबादSun, 04 Dec 2022 10:22 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान में कुछ लोगों ने मिलकर तीन पुलिसवालों की हत्या कर दी। पाकिस्तान सरकार ने उन्हें आतंकी करार दिया है। शनिवार को नौशेरा जिले के अकोरा खटक में यह घटना घठी। डॉन अखबार के मुताबिक पुलिस प्रवक्ता दुर्रानी ने बताया कि हमलावरों ने वैन को निशाना बनाया जिसमें पुलिसकर्मी सवार थे। उन्होंने कहा कि घटना के बाद तुरंत पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची और इलाके की तलाशी ली गई।

खैबर पख्तूनख्वा पुलिस ने मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान हेड कॉन्स्टेबल मंजूर, कॉन्स्टेबल अमानतुल्ला और कॉन्स्टेबल आयोज के रूप में हुई है। शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है। खैबर पख्तूनख्वा मुख्यमंत्री महमूद खान ने घटना का संज्ञान लेते हुए पुलिस चीफ से रिपोर्ट सौंपने को कहा है। पख्तूनख्वा के चीफ मिनिस्टर ने कहा कि यह घटना बहुत दुखद है। बुधवार को ही बलूचिस्तान में  पुलिस ट्रक पर आत्मघाती हमला किया गया थी जिसमें चार पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। वहीं 24 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। 

क्वेटा के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस गुलाम अजफर माहेसर ने कहा है कि पोलिया वर्कर्स को सुरक्षा देने वाले पुलिस ट्रक पर हमला किया गया था। उन्होंने कहा कि तीन वाहन इस हमले के चपेट में आए थे जिसमें पुलिस का ट्रक भी शामिल था। जिस तरह का धमाका था उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि हमले में 25 किलो बारूद का इस्तेमाल किया गया था। 

माहेसर ने कहा कि घायलों को क्वेटा के सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हमले के बाद पाकिस्तान में प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने इसकी जिम्मेदारी भी ले ली थी। इससे एक दिन पहले ही आतंकी संगठन ने युद्ध का ऐलान किया था और सीजफायर का समझौता तोड़ दिया था। 

टीटीपी के बयान के मुताबिक उन्होंने जून के उस समझौते को तोड़ दिया जो कि पाकिस्तानी सरकार के साथ किया गया था। बता दें कि टीटीपी अफगानिस्तान वाले तालिबान से अलग है लेकिन विचार और अजेंडा एक जैसा ही है। टीटीपी ने कहा था कि पाकिस्तानी सेना मुजाहिदीन के खिलाफ कार्रवाई क रही है इसलिए टीटीपी भी हमले करेगा। 2007 के बाद से टीटीपी पाकिस्तान में सैकड़ों हमले कर चुका है और हजारों लोगों की जान जा चुकी है।