ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेश US, चीन में फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार, क्या भारत में भी बढ़ सकता है खतरा?

US, चीन में फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार, क्या भारत में भी बढ़ सकता है खतरा?

सर्दियां बढ़ते ही अमेरिका और चीन में एक बार फिर कोरोना रफ्तार पकड़ रहा है। अमेरिका में लोगों के अस्पताल मेंभर्ती होने की दर तेजी से बढ़ी है। हालांकि भारत में इसका खतरा नहीं बताया गया है।

 US, चीन में फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार, क्या भारत में भी बढ़ सकता है खतरा?
Ankit Ojhaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 19 Nov 2023 11:17 AM
ऐप पर पढ़ें

कोरोना से जूझने के बाद अब दुनिया अपने रास्ते पर वापसी कर रही है। वहीं ठंड बढ़ते ही एक बार फिर कोरोना के एक बार फिर बढ़ने का खतरा नजर आ रहा है। बीते कुछ सप्ताह में अमेरिका में कोरोना संक्रमति लोगों के हॉस्पिटलाइज होने के मामले बढ़े हैं। 11 नवंबर तक एक सप्ताह में ही यूएस में 16239 लोग अस्पताल में भर्ती हुए। इस तरह से कोरोना के मामलों में 8.6 फीसदी की उछाल देखी गई है। सीडीसी के मैप के मुताबिक अमेरिका के 14 प्रांतों में करोना का प्रकोप बढ़ रहा है। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक अमेरिका के अपर मिडवेस्ट, साउथ अटलांटिक और सदर्न माउंटेन में कोरोना के मामलों में तेजी से वृद्धि दर्ज की गई है। जानकारों का कहना है कि जैसे-जैसे ठंड बढ़ रही है, कोरोना का संक्रमण भी बढ़ रहा है। सीडीसी ने बताया कि ठंड बढ़ने से संक्रामक बीमारियों के बढ़ने का खतरा बना रहता है। 2020 का एक अध्ययन बताता है कि कोरोना वायरस ठंड में ज्यादा सर्वाइव करता है। ऐसे में ठंड और ड्राइ सीजन भी चुनौती बन जाता है। 

अमेरिका में जून के बाद सितंबर तक भी कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। हालांकि अक्टूबर में इसकी रफ्तार थमी हुई थी। अब भी पिछले साल की जनवरी की तुलना में कोरोना के मामले कम हैं। बीते साल जनवरी में 150,600 मरीज सामने आए थे। वहीं जानकारों का कहना है कि जिन इलाकों में ज्यादा लोग अस्पताल में भर्ती नहीं हो रहे हैं, वहां भी कोरोना के मामले बढ़े हैं लेकिन इनका पता नहीं लगाया जा सका है। 

चीन में अक्टूबर में 24 मौतें
अमेरिका में कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से एक बार फिर सख्ती की जा सकती है। इसी तरह चीन में भी बढ़ती सर्दी के बीच कोरोना चुनौती बना हुआ है। यहां चेतावनी दी गई है कि लोग जल्द से जल्द टीकाकरण करवा लें. । अक्टूबर महीने में चीन में 24 लोगों की कोरोना से जान चली गई। बताया गया कि यह कोरोना का एक्सएक्सबी वैरिएंट था। यह वैरिएंट सर्दी के मौसम में ज्यादा ऐक्टिव होता है। यह भी कहा जाता है कि चीन में कोरोना के जो टीके विकसित किए गए उनका प्रभाव कम है. 

भारत की बात करें तो यहां कोरना की रफ्तार थमी हुई है। 24 घंटे में कोरोना के 16 से 20 मामले ही सामने आ रहे हैं। बता दें कि कोरोना की लहरों में कम से कम देश में 5.33 लाख लोगों की मौत हो गई थी। फिलहार एक्सपर्ट का कहना है कि भारत में कोरोना का खतरा नहीं है। मौसम के अनुसार खांसी बुखार में बढ़ोतरी देखी गई है लेकिन कोरोना का खतरा नहीं है। 


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें