ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशचीन को बड़ा झटका देने की तैयारी में थाइलैंड, बोला- मांग पूरी करो, नहीं तो डील कैंसिल

चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी में थाइलैंड, बोला- मांग पूरी करो, नहीं तो डील कैंसिल

इस साल की शुरुआत में, पनडुब्बी बनाने का काम उस समय रुक गया था जब जर्मन कंपनी ने कहा कि वह थाई पनडुब्बी में लगाने के लिए चीनी कंपनी को अपने अत्याधुनिक MTU396 डीजल इंजन की आपूर्ति नहीं करेगी।

चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी में थाइलैंड, बोला- मांग पूरी करो, नहीं तो डील कैंसिल
Amit Kumarएएनआई,बैंकॉकWed, 30 Nov 2022 05:52 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

थाइलैंड चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी में है। उसका कहना है कि अगर चीन अपने वादे पर खरा नहीं उतरो तो वो वह एक बड़ी डील कैंसिल कर देगा। थाइलैंड की सरकार ने अपनी बात फिर से दोहराते हुए कहा है कि अगर खरीद की शर्तों को पूरा नहीं किया जा सकता है तो वह सुस्त पड़ी चीनी पनडुब्बी सौदे को रद्द करने के लिए तैयार है। अंग्रेजी भाषा के दैनिक समाचार पत्र द बैंकाक पोस्ट के अनुसार, थाइलैंड नौसेना के कमांडर-इन-चीफ एडम चोंगचाई चोमचोएंगपेट ने पिछले हफ्ते कहा था कि अगर खरीद की शर्तें फायदेमंद नहीं हैं, तो वे चीन के साथ अपनी पनडुब्बी खरीद परियोजना से बाहर निकलने के लिए तैयार हैं।

साल 2017 में थाइलैंड ने चीन की सरकारी कंपनी चाइना शिपबिल्डिंग एंड ऑफशोर इंटरनेशनल कंपनी (CSOC) के साथ 13.5 बिलियन बहत (थाईलैंड की आधिकारिक मुद्रा) के तहत पनडुब्बी खरीदने का सौदा किया था। सौदे के तहत चीनी कंपनी को साल 2023 तक थाइलैंड को S26T युआन-क्लास पनडुब्बी कि डिलीवरी करनी थी। बैंकाक पोस्ट के अनुसार, कॉन्ट्रैक्ट के तहत चीनी कंपनी को पनडुब्बी में बेहद शानदार जर्मन निर्मित एमटीयू 396 डीजल इंजन लगाना था। लेकिन अब खबर है कि जर्मनी अपने इस इंजन को चीन को बेचने की अनुमति नहीं देगा।

इस साल की शुरुआत में, पनडुब्बी बनाने का काम उस समय रुक गया था जब जर्मन कंपनी ने कहा कि वह थाई पनडुब्बी में लगाने के लिए चीनी कंपनी को अपने अत्याधुनिक MTU396 डीजल इंजन की आपूर्ति नहीं करेगी। जर्मन कंपनी ने कहा कि चीन पर सैन्य वस्तुओं की बिक्री को लेकर यूरोपीय संघ का प्रतिबंध लगा हुआ है और इसी कारण वह अपने इंजन को चीनी कंपनी को नहीं बेचेगा। इसके बाद, चीनी कंपनी ने थाइलैंड से कहा कि वह पनडुब्बी में चीन में बना इंजन लगा सकती है। इसके अलावा, चीन ने थाईलैंड को अपनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की निकाली गईं दो नौकाओं की पेशकश करने की कोशिश की थी। 

द डिप्लोमैट पत्रिका के लिए लिखते हुए, स्तंभकार सेबस्टियन स्ट्रांगियो ने कहा कि थाई सरकार ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। सरकार ने जोर देकर कहा कि उनकी पनडुब्बी में कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक, जर्मन इंजन ही स्थापित किए जाएं। थाइलैंड प्रधानमंत्री प्रयुत चान-ओ-चा ने मार्च में संवाददाताओं से कहा ने कहा था, "बिना इंजन वाली पनडुब्बी का हम क्या करें? हम इसे क्यों खरीदें?"