ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशआतंकी हमले, हिंसा और धांधली... क्या रद्द हो जाएगा पाकिस्तान का आम चुनाव? सुप्रीम कोर्ट लेगा फैसला

आतंकी हमले, हिंसा और धांधली... क्या रद्द हो जाएगा पाकिस्तान का आम चुनाव? सुप्रीम कोर्ट लेगा फैसला

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट की तीन-न्यायाधीशों की पीठ आम चुनावों को अमान्य घोषित करने की मांग वाली याचिका पर सोमवार को सुनवाई करेगी। याचिका में 30 दिनों के भीतर नए सिरे से चुनाव कराने की मांग की गई है।

आतंकी हमले, हिंसा और धांधली... क्या रद्द हो जाएगा पाकिस्तान का आम चुनाव? सुप्रीम कोर्ट लेगा फैसला
Himanshu Tiwariएएनआई,नई दिल्लीFri, 16 Feb 2024 06:16 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में 8 फरवरी को हुए आम चुनाव को खारिज करने को लेकर एक याचिका दायर की गई है। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट की तीन-न्यायाधीशों की पीठ आम चुनावों को अमान्य घोषित करने की मांग वाली याचिका पर सोमवार को सुनवाई करेगी। पाकिस्तान के नागरिक अली खान ने याचिका में अदालत से गुहार लगाई है कि 30 दिनों के भीतर नए सिरे से चुनाव कराने का आदेश दिए जाएं। इसके अलावा, याचिका में निष्पक्षता, पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए न्यायपालिका की देखरेख और निगरानी में आम चुनाव कराने की मांग की गई है।

पाकिस्तान में 8 फरवरी को हुए चुनाव
द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, याचिका में पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) और संघीय सरकार को मामले में प्रतिवादी बनाया गया है। कथित तौर पर याचिका में मामले का समाधान होने तक नई सरकार के गठन पर रोक लगाने की मांग की गई है। पाकिस्तान में 8 फरवरी को आम चुनाव हुए, जिसमें पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) समर्थित स्वतंत्र उम्मीदवारों ने 92 सीटें हासिल कीं, पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) ने 75 सीटें और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने 54 सीटें हासिल कीं।

चुनाव में धांधली के लगे आरोप
द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, विभिन्न राजनीतिक दलों और हारने वाले उम्मीदवारों ने चुनावों में धोखाधड़ी के आरोप लगाए हैं। वहीं सिंध उच्च न्यायालय (एसएचसी) ने निर्देश दिया कि चुनावी निगरानीकर्ता सभी पक्षों की शिकायतें सुनें और कानून के अनुसार 22 फरवरी से पहले निर्णय लें। इसके अलावा, इसमें कहा गया कि चुनाव आयोग को फॉर्म 45 और 47 में आवेदकों के रिकॉर्ड की जांच करनी चाहिए। कोर्ट ने आदेश दिया है कि अगर कोई अनियमितता पाई जाए तो उसे दूर किया जाए। 

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के आम चुनावों के बाद, 2024 के आम चुनावों में कथित धांधली के खिलाफ बलूचिस्तान, सिंध और देश के अन्य हिस्सों में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए हैं। नेशनल पार्टी, पीपीपी, जेयूआई, बीएपी, बीएनपी-मेंगल, पीकेएमएपी और पीकेएनएपी सहित राजनीतिक दलों ने प्रमुख मार्गों और जिला रिटर्निंग कार्यालयों में विरोध प्रदर्शन किया, बलूचिस्तान में पुनर्गणना की मांग की और घोषित परिणामों को चुनौती दी। इस बीच, बीएनपी-एम, पीकेएमएपी और हजारा डेमोक्रेटिक पार्टी (एचडीपी) सहित चार राजनीतिक दलों ने प्रांत में कथित चुनाव धांधली के खिलाफ संयुक्त विरोध प्रदर्शन की घोषणा की।

हो रहा है विरोध प्रदर्शन
इसके अलावा, इन राजनीतिक दलों ने अपने निर्वाचन क्षेत्रों के परिणामों पर पुनर्विचार करने के लिए पाकिस्तान के चुनाव आयोग पर दबाव बनाने के लिए एक संयुक्त विरोध शिविर भी स्थापित किया। वहीं अवामी नेशनल पार्टी, जेयूआई और कुछ उम्मीदवारों सहित विभिन्न राजनीतिक दलों ने बलूचिस्तान को कराची, सिंध, पंजाब और देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाले मुख्य राजमार्गों को अवरुद्ध कर दिया। कथित तौर पर आज, राजधानी पुलिस ने इस्लामाबाद में धारा 133 लागू कर दी है और कहा है कि लोगों के किसी भी अवैध जमावड़े के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें