ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशकजाखस्तान में मारे गए दसियों प्रदर्शनकारी

कजाखस्तान में मारे गए दसियों प्रदर्शनकारी

कजाखस्तान में बीते कई हफ्तों से महंगाई के मुद्दे पर लोगों के विरोध का सामना कर रही सरकार ने बुधवार इस्तीफा दे दिया. विरोध प्रदर्शन फिर भी जारी रहे और गुरुवार को पुलिस और सेना के साथ झड़प में कई...

कजाखस्तान में मारे गए दसियों प्रदर्शनकारी
डॉयचे वेले,दिल्लीThu, 06 Jan 2022 03:30 PM

कजाखस्तान में बीते कई हफ्तों से महंगाई के मुद्दे पर लोगों के विरोध का सामना कर रही सरकार ने बुधवार इस्तीफा दे दिया. विरोध प्रदर्शन फिर भी जारी रहे और गुरुवार को पुलिस और सेना के साथ झड़प में कई प्रदर्शनकारी मारे गए.कजाखस्तान में सरकार के इस्तीफा देने के बाद भी विरोध प्रदर्शन जारी हैं. गुरुवार को ये प्रदर्शन इतने हिंसक हो गए कि देश के सबसे बड़े शहर अलमाटी में प्रदर्शनकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच कई हिंसक झड़पें हुईं. पुलिस के मुताबिक कई प्रदर्शनकारी उनके दफ्तरों में घुसने का प्रयास कर रहे थे, जिसके बाद हुई झड़प में वे मारे गए. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक लगातार तीसरे दिन सैकड़ों प्रदर्शनकारी सरकार के खिलाफ अलमाटी के मुख्य चौराहे पर जमा थे. गुरुवार सुबह हथियारबंद पुलिसकर्मी और दर्जनों सैनिक घटनास्थल पर पहुंचे. रॉयटर्स से बात करनेवाले चश्मदीदीदों ने बताया कि सुरक्षाकर्मियों के भीड़ के पास पहुंचने के बाद गोलियां चलने की आवाजें सुनी गईं, जिसके बाद से मुख्य चौराहे पर कोई खास गतिविधि दिखाई-सुनाई नहीं दे रही है. सरकार ने दिया था इस्तीफा कजाखस्तान में मंहगाई के खिलाफ कई हफ्तों से विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं. मंगलवार को प्रदर्शन तब और तेज हो गए, जब अधिकारियों ने एलपीजी की कीमतों पर लगी सीमा हटा ली, जिसके बाद ईंधन की कीमतों में तेज वृद्धि देखने को मिली

फिर बुधवार को राष्ट्रपति कासिम जोमाट तोकायेव ने सरकार का इस्तीफा स्वीकार करते हुए अलीखान समाईलोव को कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किया. साथ ही, उन्होंने देश में दो हफ्तों का आपातकाल लागू किया और सरकार को तेल की कीमतें नियमित करने का आदेश दिया. विरोध प्रदर्शनों का स्तर देखते हुए राष्ट्रपति तोकायेव ने देश के नाम संबोधन में कहा था कि सरकार और सेना के दफ्तरों पर हमले का आह्वान पूरी तरह गैरकानूनी है. इस हफ्ते बिगड़ते चले गए हालात ईंधन कीमतों में वृद्धि के बाद मंगलवार को जब प्रदर्शन तेज हुए, तो बीते दो दिनों में आठ पुलिसकर्मी और नेशनल गार्ड के सैनिक मारे गए. फिर कजाखस्तान के राष्ट्रपति ने रूसी सुरक्षाबलों से मदद मांगी, जिन्होंने शांति-सेना भेजने का प्रस्ताव दिया था. सरकारी टीवी चैनल के मुताबिक गुरुवार को कजाखस्तान के नेशनल बैंक ने अपने कर्मचारियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए देशभर में बैंकों का कामकाज बंद रखने का फैसला किया है. पूरे देश में इंटरनेट भी लगभग बंद है. समाचार एजेंसी इंटरफैक्स ने पुलिस अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि कजाखस्तान के सबसे बड़े शहर में गुरुवार को दसियों प्रदर्शनकारी मारे गए हैं. समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक पुलिस का दावा है कि ये प्रदर्शनकारी सरकारी दफ्तरों में घुसने का प्रयास कर रहे थे. वीएस/एनआर (रॉयटर्स, एएफपी)

epaper