ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशअफगानिस्तान में शुरू होगी हवाई यात्रा, हवाईअड्डों को चलाने के लिए तालिबान ने यूएई के साथ किया समझौता

अफगानिस्तान में शुरू होगी हवाई यात्रा, हवाईअड्डों को चलाने के लिए तालिबान ने यूएई के साथ किया समझौता

बातचीत के बाद मंगलवार को तालिबान के परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा कि तालिबान ने अफगानिस्तान में हवाई अड्डों के परिचालन के लिए संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

अफगानिस्तान में शुरू होगी हवाई यात्रा, हवाईअड्डों को चलाने के लिए तालिबान ने यूएई के साथ किया समझौता
Amit Kumarएएनआई,काबुलThu, 26 May 2022 09:25 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/

अफगानिस्तान में जल्द ही हवाई यात्रा फिर से बहाल हो सकती है। हवाईअड्डों को चलाने के लिए सत्ताधारी तालिबान ने यूएई के साथ समझौता किया है। संयुक्त अरब अमीरात, तुर्की और कतर के साथ महीनों की बातचीत के बाद मंगलवार को तालिबान के परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा कि तालिबान ने अफगानिस्तान में हवाई अड्डों के परिचालन के लिए संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। तालिबान ने कहा कि उन्होंने अबू धाबी स्थित जीएएसी सॉल्यूशंस को हेरात, काबुल और कंधार में हवाई अड्डों का प्रबंधन करने की अनुमति देने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

तालिबान के परिवहन और नागरिक उड्डयन उप मंत्री गुलाम जेलानी वफा ने मंगलवार को पहले उप प्रधान मंत्री मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की उपस्थिति में GAAC निगम के प्रतिनिधि के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। कॉन्ट्रैक्ट साइनिंग इवेंट में बोलते हुए, मुल्ला बरादर ने कहा कि देश की सुरक्षा मजबूत है और इस्लामिक अमीरात विदेशी निवेशकों के साथ काम करने को तैयार है।

बरादर ने कहा कि इस सौदे पर हस्ताक्षर के साथ, सभी विदेशी एयरलाइंस सुरक्षित और भरोसेमंद रूप से अफगानिस्तान के लिए उड़ान भरना शुरू कर देंगी। परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्री गुलाम जेलानी वफा ने कहा, "जब हम एक गंभीर और आपातकालीन स्थिति में थे, यूएई ने तकनीकी सहायता और मुफ्त टर्मिनल मरम्मत में हमारी सहायता की। GAAC Corporation एक बहुराष्ट्रीय फर्म है जो संयुक्त अरब अमीरात में विमानन सेवाएं प्रदान करती है।"

अगस्त 2021 में तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया था, जिसके कारण पिछली सरकार गिर गई। दिसंबर 2021 में, तुर्की और कतरी कंपनियों ने काबुल हवाई अड्डे, और बल्ख, हेरात, कंधार और खोस्त के प्रांतों में हवाई अड्डों को संचालित करने के लिए एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे, जो वर्तमान में अफगानिस्तान में गंभीर आर्थिक परिस्थितियों के कारण काम करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। 

epaper