अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईश्वर के अस्तिस्व पर स्टीफन हॉकिंग ने कुछ इस तरह उठाए थे सवाल...

Stephen Hawking book

विश्व प्रसिद्ध भौतिक वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का बुधवार को लंदन में निधन हो गया। वह 76 साल के थे। ब्रिटिश मूल के वैज्ञानिक हॉकिंग को ब्लैक होल और रिलेटिविटी के सिद्धांत के लिए अपने महान कार्य के लिए जाना जाता है। शारीरिक रूप से असक्षम होने के बावजूद हॉकिंग ने विज्ञान के क्षेत्र में अपने काम से दुनियाभर के लोगों की विज्ञान के प्रति रुचि बढ़ा दी थी। 

विज्ञान आस्था में विश्वास नहीं करता इस बात को हॉकिंग ने भी अपनी किताब के जरिए साबित कर दिया था। हॉकिंग ने अपनी किताब 'द ग्रांड डिजाइन' में ईश्वर के अस्तित्व को ही सिरे से नकार दिया था। हालांकि, इस बात के लिए उन्हें काफी विरोध का सामना भी करना पड़ा था। हॉकिंग ने एक नए ग्रह की खोज के विषय में बात करते हुए सौरमंडल के खास समीकरण और ईश्वर के अस्तित्व पर सवाल खड़े कर दिए थे।

स्टीफन हॉकिंग ने कहा था- भारतीय गणित और फिजिक्स में काफी अच्छे हैं

दरअसल, साल 1992 में एक ग्रह की खोज की गई थी जो हमारे सूर्य की जगह किसी अन्य सूर्य का चक्कर लगा रहा था। तब हॉकिंग ने इसका ही उदाहरण देते हुए कहा था कि ये खोज बताती है कि हमारे सौरमंडल के खगोलीय संयोग- एक सूर्य, पृथ्वी और सूर्य के बीच में उचित दूरी और सोलर मास, सबूत के तौर पर ये मानने के लिए नाकाफी हैं कि पृथ्वी को इतनी सावधानी से इंसानों को खुश करने के लिए बनाया गया था। उन्होंने सृष्टि के निर्माण के लिए गुरुत्वाकर्षण के नियम को श्रेय दिया।

'आक्रमकता इंसानों की सबसे बुरी आदत है', पढ़ें स्टीफन हॉकिंग के 10 Quotes

हॉकिंग ने कहा था कि गुरुत्वाकर्षण वो नियम है जिसके चलते ब्रह्मांड अपने आपको शून्य से एक बार फिर शुरू कर सकता है और आगे भी करेगा। ये अचानक खुद ब खुद होने वाली खगोलीय घटनाएं हमारे अस्तित्व के लिए जिम्मेदार हैं। ऐसे में ब्रह्मांड को चलाने के लिए ईश्वर की कोई जरूरत नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Stephen Hawking raisd questions on god existence in his book The Grand Design