ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशप्राइवेट जेट से सिंगापुर निकलना चाहते हैं राजपक्षे, क्या पूरी होगी मांग

प्राइवेट जेट से सिंगापुर निकलना चाहते हैं राजपक्षे, क्या पूरी होगी मांग

जैसे ही राजपक्षे मालदीव पहुंचे थे, वहां भी उनका विरोध शुरू हो गया था। राजपक्षे कभी भी मालदीव से सिंगापुर के लिए रवाना हो सकते हैं। लेकिन अभी उन्हें प्राइवेट जेट नहीं मिल पाया है।

प्राइवेट जेट से सिंगापुर निकलना चाहते हैं राजपक्षे, क्या पूरी होगी मांग
Gauravलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 14 Jul 2022 07:00 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

श्रीलंका से मालदीव भागे राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे अब सिंगापुर जाने की तैयारी में हैं लेकिन वे वहां प्राइवेट जेट में जाना चाहते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक मालदीव में वेलाना एयरपोर्ट पर भारी सुरक्षा व्यवस्था है, क्योंकि गोटाबाया राजपक्षे कभी भी मालदीव से सिंगापुर के लिए रवाना हो सकते हैं। लेकिन अभी उन्हें प्राइवेट जेट नहीं मिल पाया है।

दरअसल, स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जैसे ही राजपक्षे मालदीव पहुंचे थे, वहां भी उनका विरोध श्रीलंकाई मूल के लोगों द्वारा शुरू हो गया था। अब राजपक्षे ने विरोध प्रदर्शन के डर से ही सिंगापुर जाने के लिए मालदीव सरकार से प्राइवेट जेट की मांग की। बताया जा रहा था कि वे सिंगापुर निकलने वाले थे, लेकिन वे प्राइवेट जेट से जाना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें- ब्रिटिश PM बन पाएंगे भारतीय मूल के ऋषि? पहले राउंड में किया टॉप

इसी बीच यह भी सामने आया कि वे कैसे मालदीव पहुंचे हैं। एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक राजपक्षे के मालदीव भागने के लिए मालदीव की संसद के अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने बातचीत की थी। मालदीव सरकार का तर्क है कि राजपक्षे अभी भी श्रीलंका के राष्ट्रपति हैं और उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है। हालांकि अब उन्होंने इस्तीफे पर हस्ताक्षर कर दिया है।

उधर श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में प्रदर्शनकारियों के पीएम आवास और सरकारी न्यूज चैनल पर कब्जे के बाद कार्यवाहक राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने नागरिकों की सुरक्षा के लिए सेना और पुलिस को प्रदर्शनकारियों से निपटने के निर्देश दिए हैं।

विक्रमसिंघे ने घोषणा की है कि नागरिकों की सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करने और देश में कानून व्यवस्था बहाल करने के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, ट्राई फोर्स कमांडरों और आईजीपी की एक समिति नियुक्त की गई। उन्होंने कहा कि समिति को राजनेताओं के हस्तक्षेप के बिना कार्य करने का पूरा अधिकार दिया जाएगा।

epaper