DA Image
1 अक्तूबर, 2020|7:51|IST

अगली स्टोरी

इंग्लैंड में भी लोगों को देरी से मिलता है न्याय, भारतीय मूल के व्यक्ति की हत्या के 17 साल बाद घटनास्थल पर पहुंचे जासूस

sluggish judicial system detectives arrived at the scene after 17 years to solve the murder case of

स्कॉटलैंड यार्ड के जासूस बुधवार को भारतीय मूल के व्यक्ति की हत्या से जुड़ीं जानकारियां जुटाने के लिए पश्चिमी लंदन पहुंचे। वहां लगभग 17 साल पहले भारतीय मूल के एक व्यक्ति पर आठ लोगों द्वारा हमला किया गया था। राजेश ‘राज’ वर्मा पर एक्टन पार्क में अगस्त 2003 में हमला किया गया था, जिसके बाद 42 वर्षीय पीड़ित को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि वर्मा के सिर पर धारदार हथियार से हमला होने के चलते उनके मस्तिष्क को गंभीर क्षति पहुंची थी, जिसके कारण उन्हें कई सालों तक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ा और हमले के 15 साल बाद मई 2018 में वर्मा की मौत हो गई।

वर्मा की मौत के बाद इस वर्ष मार्च में मेट्रोपोलिटन पुलिस ने हत्या के मामले की जांच शुरू की। वर्ष 2003 में पुलिस ने जांच की थी लेकिन किसी संदिग्ध को गिरफ्तार नहीं किया गया था।

मेट्रोपॉलिटन पुलिस की डिटेक्टिव चीफ इंस्पेक्टर विकी टनस्टाल ने कहा, “हमारा मानना है कि अपने किसी दोस्त और एक अन्य व्यक्ति के बीच विवाद में हस्तक्षेप करने के बाद राज पर हमला हुआ था। संदिग्ध हमलावर एक्टन क्षेत्र के स्थानीय व्यक्ति हो सकते हैं और संभव है कि वह अब भी वहां रह रहे हों या उनका कोई संपर्क हो।

सन 2003 में पुलिस ने जांच की थी लेकिन किसी संदिग्ध को गिरफ्तार नहीं किया गया था।

टनस्टाल ने कहा, यह चौंका देने वाला अपराध है। राज के हत्यारे की पहचान करने के लिए मैं आपकी सहायता चाहती हूं, इसलिए हमने अपराधियों के बारे में सूचना देने वाले को 20,000 पाउंड का पुरस्कार देने की घोषणा की है। राज के परिवार को इंसाफ नहीं मिला है और हम हत्या के इस मामले को सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जो भी हमारे पास इस बाबात जानकारी लेकर आएगा, हम उसकी पहचान गुप्त रखेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sluggish judicial system Detectives arrived at the scene after 17 years to solve the murder case of a person of Indian origin in London