ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशजहां निज्जर को मारा वहां मत आना, कनाडा में भारतीय दूत को धमकी; बेकाबू खालिस्तानी

जहां निज्जर को मारा वहां मत आना, कनाडा में भारतीय दूत को धमकी; बेकाबू खालिस्तानी

निज्जर की पिछले साल 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के शहर सरे में हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड के बाद पहली बार भारतीय दूत सरे जाने वाले हैं। खालिस्तानियों ने उन्हें निशाना बनाने की धमकी दी है।

जहां निज्जर को मारा वहां मत आना, कनाडा में भारतीय दूत को धमकी; बेकाबू खालिस्तानी
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,सरेThu, 29 Feb 2024 11:11 AM
ऐप पर पढ़ें

कनाडा की धरती पर खालिस्तानियों की नापाक हरकतें जारी हैं। हाल ही में अलगाववादी समूह सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) ने ओटावा में भारत के उच्चायुक्त को धमकी दी है। भारतीय दूत उसी शहर जाने वाले हैं जहां खालिस्तानी आतंकी निज्जर की हत्या की गई थी। खालिस्तान समर्थक हरदीप सिंह निज्जर की पिछले साल 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के शहर सरे में हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड के बाद पहली बार भारत के उच्चायुक्त सरे जाने वाले हैं। उससे पहले खालिस्तानियों ने उन्हें "निशाना" बनाने की धमकी दी है।

उच्चायुक्त संजय कुमार वर्मा की ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत की यात्रा के दौरान राजधानी विक्टोरिया के साथ-साथ वैंकूवर और सरे में रुकने की योजना है। शुक्रवार को उनका सरे की मेयर ब्रेंडा लॉक और सरे बोर्ड ऑफ ट्रेड के साथ भी बैठक करने का कार्यक्रम है। एक ईमेल में, एसएफजे के जनरल काउंसिल गुरपतवंत पन्नू ने कहा कि उसका समूह 1 मार्च को वर्मा को "टारगेट" करेगा। पन्नू ने कहा, "भारत शहीद निज्जर की हत्या की साजिश रचने के लिए जिम्मेदार है और खालिस्तान समर्थक सिखों को सरे में सीधे भारतीय उच्चायुक्त को निशाना बनाने का अवसर मिलेगा। सरे में विरोध प्रदर्शन भी आयोजित किया जा रहा है।

पिछले साल मार्च के बाद संजय वर्मा की ब्रिटिश कोलंबिया की यह पहली यात्रा है। एसएफजे की चेतावनी पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा, "मेरे खिलाफ खतरे के बारे में संबंधित कनाडाई अधिकारियों को बता दिया गया है, जिन्होंने मुझे मेरी सुरक्षा का आश्वासन दिया है। जैसा कि आप जानते हैं, एसएफजे भारत के गैरकानूनी एसोसिएशन रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत एक प्रतिबंधित संगठन है। यह संगठन कनाडा-भारत के समृद्ध द्विपक्षीय संबंधों को पटरी से उतारने के अपने मंसूबे दिखाता रहता है।” 

पन्नू द्वारा निशाना बनाए जाने की ओर इशारा करते हुए, संजय वर्मा ने कहा, "वह काफी समय से ऐसा कर रहा है। उस पर कोई बंदिशें नहीं लगाई गई हैं। वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग कर रहा है।" इस बीच एसएफजे ने कहा कि वह "खालिस्तान समर्थक सिखों के खिलाफ हिंसा भड़काने के लिए भारतीय राजनयिकों को जिम्मेदार ठहराने के वास्ते वकीलों को हायर कर रहा है"।  

ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में एसएफजे के प्रमुख व्यक्ति निज्जर को गुरु नानक सिख गुरुद्वारे की पार्किंग में गोली मार दी गई थी। उस हत्या के बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने 18 सितंबर, 2023 को अपनी संसद (हाउस ऑफ कॉमन्स) में कहा था कि इसके पीछे भारतीय एजेंटों का हाथ था। इसके बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध गंभीर रूप से प्रभावित हुए।  

उच्चायुक्त संजय कुमार वर्मा की ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत की यात्रा के दौरान राजधानी विक्टोरिया के साथ-साथ वैंकूवर और सरे में रुकने की योजना है। शुक्रवार को उनका सरे की मेयर ब्रेंडा लॉक और सरे बोर्ड ऑफ ट्रेड के साथ भी बैठक करने का कार्यक्रम है। एक ईमेल में, एसएफजे के जनरल काउंसिल गुरपतवंत पन्नू ने कहा कि उसका समूह 1 मार्च को वर्मा को "टारगेट" करेगा। पन्नू ने कहा, "भारत शहीद निज्जर की हत्या की साजिश रचने के लिए जिम्मेदार है और खालिस्तान समर्थक सिखों को सरे में सीधे भारतीय उच्चायुक्त को निशाना बनाने का अवसर मिलेगा। सरे में विरोध प्रदर्शन भी आयोजित किया जा रहा है।

पिछले साल मार्च के बाद संजय वर्मा की ब्रिटिश कोलंबिया की यह पहली यात्रा है। एसएफजे की चेतावनी पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा, "मेरे खिलाफ खतरे के बारे में संबंधित कनाडाई अधिकारियों को बता दिया गया है, जिन्होंने मुझे मेरी सुरक्षा का आश्वासन दिया है। जैसा कि आप जानते हैं, एसएफजे भारत के गैरकानूनी एसोसिएशन रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत एक प्रतिबंधित संगठन है। यह संगठन कनाडा-भारत के समृद्ध द्विपक्षीय संबंधों को पटरी से उतारने के अपने मंसूबे दिखाता रहता है।” 

पन्नू द्वारा निशाना बनाए जाने की ओर इशारा करते हुए, संजय वर्मा ने कहा, "वह काफी समय से ऐसा कर रहा है। उस पर कोई बंदिशें नहीं लगाई गई हैं। वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग कर रहा है।" इस बीच एसएफजे ने कहा कि वह "खालिस्तान समर्थक सिखों के खिलाफ हिंसा भड़काने के लिए भारतीय राजनयिकों को जिम्मेदार ठहराने के वास्ते वकीलों को हायर कर रहा है"।  

ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में एसएफजे के प्रमुख व्यक्ति निज्जर को गुरु नानक सिख गुरुद्वारे की पार्किंग में गोली मार दी गई थी। उस हत्या के बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने 18 सितंबर, 2023 को अपनी संसद (हाउस ऑफ कॉमन्स) में कहा था कि इसके पीछे भारतीय एजेंटों का हाथ था। इसके बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध गंभीर रूप से प्रभावित हुए।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें