DA Image
हिंदी न्यूज़ › विदेश › अफगानिस्तान: काबुल में दागे गए कई रॉकेट, पावर स्टेशन को बनाया गया निशाना
विदेश

अफगानिस्तान: काबुल में दागे गए कई रॉकेट, पावर स्टेशन को बनाया गया निशाना

ANI,काबुलPublished By: Ashutosh Ray
Fri, 17 Sep 2021 12:03 AM
अफगानिस्तान: काबुल में दागे गए कई रॉकेट, पावर स्टेशन को बनाया गया निशाना

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में रॉकेट से हमले की खबर है। यह रॉकेट काबुल में स्थित एक पावर स्टेशन के पास दागे गए हैं। स्थानिय निवासियों ने अंदेशा जताया है कि हो सकता है ये रॉकेट स्टेशन पर लगे हों। घटना के संबंध में पूरी जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है। बता दें कि तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा जमाने के बाद से काबुल में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

स्पुतनित न्यूज ने टोलो न्यूज के हवाला से बताया है कि रॉकेट गिरने के बाद अभी तक किसी भी प्रकार के नुकसान की कोई खबर नहीं है। अभी तक यह भी साफ नहीं हुआ है कि आखिर ये रॉकेट कहा से दागे गए थे। इससे पहले 30 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट पर कम से कम पॉच रॉकेट दागे गए थे, लेकिन मिसाइल रक्षा प्रणामी ने उन्हें हवा में ही निष्क्रिय कर दिया था। बता दें कि अफगानस्तान पर फिलहाल तालिबान का कब्जा है और वहां नई सरकार भी बन चुकी है।

काबुल एयरपोर्ट पर हुआ था हमला

इससे पहले 26 अगस्त को काबुल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आतंकी हमला हुआ था। इस आतंकी हमले में अमेरिका के 13 सैनिक मारे गए थे और 18 सैनिक घायल हुए थे। हमले में कुल 72 लोगों की मौत हुई थी। इसमें कई अफगान नागरिकों की जान भी गई थी। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ने इसकी जिम्मेदारी ली थी। यह हमला ऐसे समय में हुआ था जब अमेरिकी सेना अफगानिस्तान से बाहर निकल रही थी। कुछ ही घंटों बाद अमेरिका ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए हमलावार को मार गिराया था।

तालिबान ने विदेशी ताकतों को बताया था जिम्मेदार

काबुल एयरपोर्ट पह हुए हमले के लिए तालिबान ने विदेशी सुरक्षाबलों को जिम्मेदार ठहराया था। तालिबान के एक अधिकारी ने कहा था कि काबुल हवाई अड्डे पर आतंकियों ने हमला किया था। तालिबान ने कहा था कि इस हमले की पूरी दुनिया द्वारा निंदा की जानी चाहिए। एक टीवी न्यूज चैनल से बात करते हुए तालिबान के एक सदस्य अब्दुल कहर बल्खी ने कहा था हवाई अड्डे की स्थिति का हमे पता चला है कि विदेशी फोर्स वहां से चली गईं। अब ऐसे हमले नहीं होंगे। उन्होने आगे कहा था कि विदेशी ताकतों की मौजूदगी के कारण ऐसे हमले होते हैं।  

संबंधित खबरें