ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशहज यात्रा से पहले सऊदी अरब ने किया कमाल, बना डाली 4 हजार किमी की सड़क

हज यात्रा से पहले सऊदी अरब ने किया कमाल, बना डाली 4 हजार किमी की सड़क

सऊदी अरब ने हज यात्रा के लिए खास तैयारियां की हैं। रिपोर्ट के मुताबिक यात्रा से पहले ही सऊदी अरब ने 4 हजार किलोमीटर की सड़क को अपग्रेड किया है।

हज यात्रा से पहले सऊदी अरब ने किया कमाल, बना डाली 4 हजार किमी की सड़क
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,रियादMon, 13 May 2024 12:14 PM
ऐप पर पढ़ें

हज यात्रा के लिए सऊदी अरब में कई देशों के लोगों का पहुंचना शुरू हो गया है। भारत से भी 283 यात्रियों का पहला जत्था सऊदी अरब पहुंच चुका है। वहीं सऊदी अरब ने यात्रियों की सुविधा के लिए इंतजाम करने के साथ ही कड़े नियम में लागू किए हैं। सऊदी अरब जनरल अथॉरिटी ने हज यात्रियों के लिए 4000 किलोमीटर की सड़कें अपग्रेड कर डाली हैं। 

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक 4 हजार किलोमीटर की सड़क का काम किया गया है। इसमें 158 किलोमीटर की रिसरफेसिंग, 403 जगहों पर क्रैक और पाथहोल भरने का काम और 2361 किलोमीटर में मरम्मत का काम किया गया है। इसके अलावा 1240 किलोमीटर में बालू के टीलों को हटाया गया है। 421 जगहों पर सड़क पर सफाई का काम किया गया है। 

अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों की सहूलियत के लिए यह काम किया गया है। बता दें कि मक्का और मदीनी की यात्रा में सऊदी  अरब की सड़कों की भी बड़ी भूमिका होती है। ना केवल हवाई रास्ते से बल्कि ट्रेन और सड़कों के रास्ते भी बड़ी संख्या में हज यात्री मक्का पहुंचते हैं। बता दें कि इस बार सऊदी अरब ने बिना परमिट के यात्रा करने वालों पर 50 हजार रियाल यानी करीब 11 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इसके अलावा नियमों को तोड़ने पर 6 महीने की जेल भी हो सकती है। सजा पूरी होने के बाद 10 साल के लिए शख्स के निष्कासन का भी प्रावधान है। 

सऊदी अरब के हज मंत्रालय ने पवित्र स्थानों पर एंट्री के लिए नुसुक कार्ड लॉन्च किया है। वहां मक्का में एंट्री के लिए परमिट की जरूरत होगी। इस बार सऊदी अरब में हय यात्रियों की 7700 उड़ानें पहुंच सकती हैं। इसके अलावा 27 हजार से ज्यादा बसें और ट्रेनें भी सेवा देंगी। मेडिकल और अन्य कर्मचारियों को स्पेशल ड्यूटी पर लगाया गया है।

बताया जाता है कि 14 जन से हज शुरू होने की उम्मीद है। सऊदी अरब की चांद देखने वाली समिति तारीख में बदलाव भी कर सकती है। दरअसल इस्लाम में 5 फर्ज बताए गए हैं और उनमें से एक है हज यात्रा। पैगंबर मोहम्मद ने जब अपने अनुयायियों के साथ यात्रा की थी तो इसी  को आदर्श मानकर मुसलमान हज यात्रा करते हैं। इस यात्रा में कुल पांच दिन का समय लगता है। यह यात्रा इस्लामिक महीने की जिल हिज की 8 तारीख से होती है। पहले सभी हज यात्रा जेद्दा में इकट्ठा होते हैं और फिर वे मक्का शहर पहुंचते हैं।