ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशसोशल मीडिया का इस्तेमाल करने पर सऊदी महिला को 45 साल की जेल, इस महीने ऐसा दूसरा केस

सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने पर सऊदी महिला को 45 साल की जेल, इस महीने ऐसा दूसरा केस

महिला पर आरोप हैं कि उसने इंटरनेट का इस्तेमाल कर सऊदी अरब के सामाजिक ताने-बाने को खराब किया है। यह सजा सऊदी अरब के एक कोर्ट ने सुनाई है।

सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने पर सऊदी महिला को 45 साल की जेल, इस महीने ऐसा दूसरा केस
Gauravलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 31 Aug 2022 03:02 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर दुनियाभर से कई मामले सामने आते रहते हैं। ज्यादातर मामले तो इस बात को लेकर आते हैं कि किसी इंसान की अभिव्यक्ति की आजादी खतरे में लेकिन सऊदी अरब से लगातार ऐसी सिलसिलेवार घटनाएं सामने आ रही हैं जिसमें सरकार और न्यायपालिका खुद अभिव्यक्ति के बदले सजा दे रही है। एक महिला को सोशल मीडिया यूज करने के लिए 45 साल की सजा सुना दी गई।

दरअसल, सऊदी अरब की इस महिला का नाम नूरा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महिला को सिर्फ एक ट्वीट करने पर 45 साल की सजा सुना दी गई। महिला पर आरोप हैं कि उसने इंटरनेट का इस्तेमाल कर सऊदी अरब के सामाजिक ताने-बाने को खराब किया है। यह सजा सऊदी अरब के एक कोर्ट ने सुनाई है।

जानकारी के मुताबिक नूरा पर यह कार्रवाई साइबर अपराध विरोधी कानून के तहत की गई है। हालांकि नूरा का ट्विटर पर अकाउंट कोई ज्यादा एक्टिव नहीं है, लेकिन उनके ट्वीट के कारण उनको जुलाई 2021 में गिरफ्तार कर लिया गया था और विशेष न्यायालय में अब इसी अपराध के लिए उन्हें दोषी ठहराया गया। उसी मामले में नूरा को 45 साल की सजा सुनाई गई।

यह इस महीने सऊदी अरब से ऐसा दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले सऊदी अरब की ही एक महिला को ट्विटर यूज करने के आरोप में 34 साल की सजा सुनाई गई थी। लीड्स यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली सऊदी स्टूडेंट छुट्टी पर घर आई थी और तभी उसे 34 साल की जेल की सजा सुना दी। उस पर आरोप था कि उसका ट्विटर पर अकाउंट है और उसने कुछ एक्टिविस्ट्स को फॉलो किया और उनके ट्वीट को रिट्वीट किया।