DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सच्चा मित्रः रूस से कुडनकुलम परमाणु संयंत्र समेत पांच समझौते

modi and putin

चार यूरोपीय देशों की यात्रा के बीच तीसरे चरण मे सेंट पीटर्सबर्ग पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तमिलनाडु में कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र की अंतिम दो इकाइयों पर रूस के साथ बहुप्रतीक्षित समझौते को अंतिम रूप दिया। मॉस्को की ही मदद से लगनेवाले इस संयंत्र में शुरुआती अवरोध थे जिससे उबरते हुए दोनों देश इस समझौते तक पहुंचे हैं। 

कुडनकुलम परमाणु संयंत्र की इकाइयों- पांच और छह के लिए जनरल फ्रेमवर्क एग्रीमेंट (जीएफए) और ऋण सहायता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन की वार्षिक शिखर-वार्ता का सबसे प्रमुख परिणाम माना जा रहा है। 

रिएक्टरों का निर्माण भारतीय परमाणु ऊर्जा निगम लिमिटेड (एनपीसीआईएल) और रूस के परमाणु संस्थानों की नियामक इकाई रोसाटॉम की सहायक कंपनी एस्टोमस्ट्रॉयेएक्सपोर्ट करेंगे। दोनों इकाइयों की उत्पादन क्षमता एक-एक हजार मेगावाट है।

‘21वीं सदी के दृष्टिपत्र’ शीर्षक वाले दस्तावेज में कहा गया है कि भारत और रूस की अर्थव्यवस्थाएं ऊर्जा के क्षेत्र में एक-दूसरे की पूरक हैं और दोनों देश एक ऊर्जा सेतु बनाने की दिशा में काम करेंगे। इसमें कहा गया है कि परमाणु ऊर्जा, परमाणु ईंधन चक्र और परमाणु विज्ञान और प्रौद्योगिकी समेत व्यापक परिप्रेक्ष्य में भारत-रूस सहयोग का भविष्य उज्ज्वल है।

घोषणा-पत्र में कहा गया कि भारत और रूस के बीच परमाणु ऊर्जा क्षेत्र में बढ़ती साझेदारी ने भारत की ‘मेक इन इंडिया’ पहल की तर्ज पर भारत में आधुनिक परमाणु उत्पादन क्षमताओं के विकास के अवसर खोले हैं। इसके अनुसार, भारत और रूस यह प्रतिबद्धता रखते हैं कि 24 दिसंबर 2015 को हुए ‘प्रोग्राम ऑफ एक्शन फॉर लोकलाइजेशन इन इंडिया’ को दृढ़तापूर्वक लागू किया जाएगा और परमाणु उद्योगों को आपस में मजबूत साझेदारी के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
भारत में सभी 22 परमाणु ऊर्जा रिएक्टरों की मौजूदा परमाणु ऊर्जा उत्पादन क्षमता 6780 मेगावाट है।

ऊर्जा सहयोग मजबूत होगा : ऊर्जा सहयोग के क्षेत्र में परमाणु, हाइड्रोकार्बन, पनबिजली व नवीकरणीय स्रोत शामिल होंगे। इसके साथ ही दोनों देशों ने रूस के आर्कटिक क्षेत्र में हाइड्रोकार्बन की उत्खनन व खनन की संयुक्त परियोजनाएं शुरू करने पर भी सहमति जताई।

उड्डयन क्षेत्र में संबंध मजबूत : नागरिक उड्डयन नीति 2016 भारत निर्मित विमानों के लिए भी प्रोत्साहन उपलब्ध कराती है और भारत में विमान निर्माण संयंत्र की स्थापना के लिए वैश्विक ओईएम को प्रोत्साहित करती है। सिडनी आधारित उड्डयन थिंक टैंक सेंटर फॉर एशिया एविएशन (सीएपीए) के अनुसार भारत विश्व में सबसे तेजी से बढ़ता उड्डयन बाजार है और जापान को पछाड़कर घरेलू यात्री यातायात के मामले में तीसरा सबसे बड़ा घरेलू उड्डयन बाजार बन चुका है। घोषणा पत्र में सुचारू रेल परिवहन और पोत निमार्ण तथा नदी नौवहन के लिए हाई स्पीड रेलवे, समर्पित फ्रेट कॉरिडोर, नयी प्रौद्योगिकियों पर भी ध्यान केंद्रित किया गया है।

शुरुआती अवरोध
अक्तूबर 2015 में मोदी और पुतिन के एक संयुक्त वक्तव्य में परमाणु इकाइयों पर जीएफए पर दिसंबर 2016 तक दस्तखत करने का वादा किया गया था। अंतर-मंत्रालयी समूह की मंजूरी मिलने के बाद इसे प्रधानमंत्री कायार्लय में स्वीकृति के लिए भेजा गया था। लेकिन सूत्रों के अनुसार रूस द्वारा दी जाने वाली ऋण सहायता (क्रेडिट प्रोटोकॉल) अवरोध साबित हुई थी।

मजबूत साथीः भारत-रूस के रिश्तों को हल्के में नहीं लिया जा सकता- पुतिन

सीईओ सम्मेलन, निवेश का न्योता 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस की कंपनियों को भारत में उच्च प्रौद्योगिकी रक्षा उपकरण बनाने की विनिर्माण इकाइयां स्थापित करने के लिए भारतीय कंपनियों से भागीदारी करने को आमंत्रित किया। मोदी ने सालाना द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन में यहां दोनों देशों के सीईओ को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत ने स्थानीय निजी कंपनियों को रक्षा उपकरणों के विनिर्माण के लिए विदेशी कंपनियों के साथ काम करने की नीति को पिछले ही महीने मंजूरी दी है। इस नीति से निजी कंपनियां विदेशी भागीदारी के जरिए पनडुब्बी, लड़ाकू विमान व बख्तरबंद गाड़ियां आदि बना सकेंगी। 

मोदी ने कहा कि मैं रूसी कंपनियों को आमंत्रित करता हूं कि वे नयी नीति का फायदा उठाते हुए विनिमार्ण आधार बनाने के लिए भारतीय कंपनियों से भागीदारी करें।
  
युद्ध स्मारक दौरे का जिक्र
इससे पहले, मोदी ने पुतिन के साथ बातचीत में सुबह द्वितीय विश्व युद्ध के शहीदों के स्मारक के अपने दौरे का जिक्र किया। उन्होंने पुतिन से कहा, ‘आप ऐसे नेता हैं जिसके परिवार ने बलिदान दिया। आपके भाई ने शहादत दी थी।’ गौरतलब है कि पुतिन के भाई 70 साल पहले द्वितीय विश्वयुद्ध में लेनिनग्राड हमले में मारे गए थे। पुतिन ने युद्ध स्मारक जाने के लिए मोदी का आभार जताया।

मोदी-पुतिन वार्ता के बाद जारी दृष्टिपत्र से 

ऊर्जा संबंधों पर
‘हम कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इकाई पांच और छह के लिए जनरल फ्रेमवर्क एग्रीमेंट और क्रेडिट प्रोटोकॉल को अंतिम रूप दिए जाने का स्वागत करते हैं।’ 

‘हम अपने बीच एक ऊर्जा सेतु के निर्माण के लिए काम करेंगे और ऊर्जा सहयोग के सभी क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों का विस्तार करेंगे, जिनमें परमाणु, हाइड्रोकार्बन, जलविद्युत और अक्षय ऊर्जा के स्रोत शामिल हैं।’

आतंकवाद पर
‘आतंकवाद के सभी प्रारूपों की हम कड़ी निंदा करते हैं और इस बात पर जोर देते हैं कि आतंकवाद को किसी भी तरीके से उचित नहीं ठहराया जा सकता, चाहे वह वैचारिक, धार्मिक, राजनीतिक, जातीय या किसी अन्य कारण से हो।’

आतंकियों के आवागमन पर
सभी देशों से अपील है कि आतंकवादियों के सीमा पार आवागमन पर रोक लगाएं। आतंकवाद के खतरे से लड़ने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बिना दोहरा मानदंड अपनाए और चुनिंदा तरीके से काम किए बगैर सामूहिक रूप से निणार्यक लड़ाई लड़नी होगी।

जलवायु परिवर्तन पर
ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन घटाने में प्राकृतिक गैस का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल बहुत महत्वपूर्ण है और इससे जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते के प्रावधानों का पालन करने में मदद भी मिलेगी।

उड्डयन क्षेत्र में 
भारत और रूस विनिर्माण क्षेत्र में संयुक्त उपक्रमों की स्थापना कर उड्डयन क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने पर सहमत हुए। भारत 2020 तक तीसरा सबसे बड़ा वैश्विक उड्डयन बाजार बनने की ओर अग्रसर है।

मोदी ने रूस की कंपनियों को निवेश का न्योता दिया

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Russia, Kudankulam nuclear plant, agreement