Rahul Gandhi in Bahrain - India in danger government dividing the name of caste and religion - बहरीन में राहुल गांधी बोले- खतरे में है भारत, जाति-धर्म के नाम पर बांट रही सरकार DA Image
20 नबम्बर, 2019|2:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहरीन में राहुल गांधी बोले- खतरे में है भारत, जाति-धर्म के नाम पर बांट रही सरकार

राहुल गांधी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए सोमवार को आरोप लगाया कि सरकार लोगों को धर्म और जाति के आधार पर बांट रही है। उन्होंने कहा कि सरकार रोजगारविहीन युवाओं के गुस्से को सामुदायिक नफरत में बदल रही है। 

पार्टी का अध्यक्ष पद संभालने के बाद राहुल भारत के बाहर प्रवासी भारतीयों (एनआरआई) को पहली बार संबोधित कर रहे थे। उन्होंने प्रवासी भारतीय समुदाय को आश्वस्त किया कि वह अगले छह माह में एक ‘नई चमकदार कांग्रेस पार्टी’ देंगे। उन्होंने संकेत किया कि संगठन में नाटकीय बदलाव होंगे जिसमें लोग भरोसा करेंगे। देश में ‘गंभीर समस्या’ के मद्देनजर उन्होंने प्रवासी भारतीयों से आग्रह किया कि वे इस समस्या का समाधान करने में मदद करे और इस पुनर्गठन का हिस्सा बनें। 

 

केंद्र सरकार ने SC में कहा- सिनेमाघरों में अनिवार्य ना हो राष्ट्रगान

राहुल ने भरोसा जताया कि कांग्रेस 2019 के आम चुनाव में भाजपा को पराजित करेगी। उन्होंने कहा, कांग्रेस में यह करने की शक्ति और क्षमता है। उन्होंने गुजरात चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने का जिक्र भी किया। प्रवासी भारतीयों के ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पीपुल ऑफ इंडिया ऑरिजन (जीओपीआईओ) को संबोधित करते हुए राहुल ने देश के लिए अपना दृष्टिकोण पेश करते हुए तीन प्राथमिकताओं का जिक्र किया। ये प्राथमिकताएं हैं रोजगार, अच्छा स्वास्थ्य तंत्र और एक शिक्षा प्रणाली।

उन्होंने कहा, भारत आज आजाद है, लेकिन यह एक बार फिर खतरे में हैं। आज दो खतरे साफ हैं। सरकार रोजगार पैदा करने में विफल रही है। रोजगार नहीं होने से युवाओं में गुस्सा है। सभी धर्मों के लोगों को साथ लाने की बजाय सरकार रोजगारविहीन युवाओं के गुस्से को सामुदायिक नफरत में बदल रही है।

बड़ा झटका: उपचुनाव से पहले BJP प्रत्याशी ने थामा TMC का दामन

इससे पहले, राहुल ने यहां बहरीन के शहजादे शेख सलमान बिन हमद अल खलीफा से मुलाकात की और परस्पर हित के विभिन्न द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की। कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद से यह राहुल का पहला विदेश दौरा है। बहरीन के सरकारी मेहमान के तौर पर यहां आए राहुल के शाह हम्स बिन इसा अल खलीफा से मिलने की कार्यक्रम था। कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्विटर पर लिखा, बहरीन के शहजादे शेख सलमान बिन हमद अल खलीफा के साथ मुलाकात अच्छी रही। हमने भारत और बहरीन के आपसी हित के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

‘गल्फ डेली न्यूज’ की खबर के अनुसार, राहुल विदेश मंत्री शेख खालिद बिन अहमद अल खलीफा से भी मिले। उन्होंने दोपहर के भोज पर हुई बैठक के बाद ट्वीट किया, बहरीन के माननीय विदेश मंत्री, महामहिम शेख खालिद बिन अहमद अल खलीफा। इतनी शानदार मेहमाननवाजी करने के लिए आपका शुक्रिया। उनके 9 जनवरी को भारत लौटने की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rahul Gandhi in Bahrain - India in danger government dividing the name of caste and religion