DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय मूल के पाकिस्तानी नेता बी एम कुट्टी का निधन, Indo-Pak के बीच बेहतर रिश्तों के हमेशा हिमायती रहे

b m kutty  photo  manoramaonline

भारतीय मूल के प्रख्यात पाकिस्तानी नेता एवं मानवाधिकार कार्यकर्ता बी एम कुट्टी का लंबी बीमारी के बाद रविवार को यहां निधन हो गया। वह 89 वर्ष के थे। कुट्टी 70 साल पहले 19 वर्ष की आयु में 1949 में पाकिस्तान में बस गये थे। उनका जन्म केरल के मलप्पुरम नगर में हुआ था।

वह भारत और पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए काम करने वाले एक शांति समूह 'पाकिस्तान पीस कोलेशन' के महासचिव थे। वह बलूचिस्तान के गवर्नर के राजनीतिक सचिव भी रहे थे। मानवाधिकार कार्यकर्ता एवं पत्रकार मारवी सरमद ने कहा, ''वह काफी समय से बीमार थे।" उन्होंने नागरिक एवं मानवाधिकारों के लिए लड़ाई में अपना पूरा जीवन लगा दिया। उनकी पत्नी बिरजिस सिद्दिकी का 2010 में निधन हो गया था। दंपती की चार संतानें हैं।

भारत और बहरीन की दुनिया से अपील, आतंकवाद के इस्तेमाल को खारिज करें

कुट्टी 2011 में अपनी आत्मकथा 'स्वनिर्वासन में 60 साल: कोई अफसोस नहीं' एक राजनीतिक आत्मकथा से प्रसिद्ध हुए। इसमें उन्होंने केरल से कराची तक की अपनी यात्रा की कहानी बयां की है। इस बीच, तिरूवनंतपुरम से प्राप्त खबर के मुताबिक केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कुट्टी के निधन पर शोक प्रकट किया है।

विजयन ने कुट्टी को एक ऐसा नेता बताया जो भारत और पाकिस्तान के बीच बेहतर संबंधों के हमेशा ही हिमायती रहे। उन्होंने कहा, ''वह (कुट्टी) एक प्रख्यात पत्रकार और प्रतिबद्ध नेता भी थे, जिन्होंने शांति की खातिर एवं साम्प्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई लड़ी।"

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Prominent Indian origin Pakistani politician B M Kutty dies