DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  गलवान में मारे गए सैनिकों की संख्या पर चीनी छात्र ने उठाए थे सवाल, दुबई में हुआ गिरफ्तार, अब बीजिंग करवाएगा जांच

विदेशगलवान में मारे गए सैनिकों की संख्या पर चीनी छात्र ने उठाए थे सवाल, दुबई में हुआ गिरफ्तार, अब बीजिंग करवाएगा जांच

एजेंसी,बीजिंग Published By: Priyanka
Tue, 01 Jun 2021 06:47 AM
गलवान में मारे गए सैनिकों की संख्या पर चीनी छात्र ने उठाए थे सवाल, दुबई में हुआ गिरफ्तार, अब बीजिंग करवाएगा जांच

बीते साल गलवान घाटी में हुई चीन और भारत के सैनिकों की हिंसक झड़प को लेकर बीजिंग के खिलाफ बोलना एक 19 वर्षीय छात्र को महंगा पड़ गया। इस चीनी छात्र ने सोशल मीडिया पर सवाल किया था कि झड़प में कितने सैनिक मारे गए, यह बताने में चीन ने छह महीने का इंतजार क्यों किया। खबर के मुताबिक, इस चीनी छात्र वांग को अमेरिका जाते समय दुबई में गिरफ्तार किया गया और बाद में उसे छोड़ा गया। अब चीन ने कहा है कि वह इस मामले की जांच कर रहा है। 

भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों के साथ पिछले साल 15 जून को हुई झड़प में 20 कर्मियों की शहादत की घोषणा की थी जबकि चीन की जन मुक्ति सेना ने करीब आठ महीने बाद खुलासा किया था कि उसके चार सैन्य कर्मी मारे गए थे जबकि एक अधिकारी घायल हुआ था।

एसोसिएटेड प्रेस के मुताबिक, वांग ने तब सार्वजनिक रूप से सोशल मीडिया पर सवाल किया था कि चीन सरकार ने चीनी सैनिकों की मौत के बारे में जानकारी देने के लिये छह महीने तक इंतजार क्यों किया। इसके बाद उसे प्रताड़ित करने का अभियान चलने लगा, जिसकी वजह से वह इस्तांबुल रवाना हो गया।

पिछले साल गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद आधिकारिक मीडिया में आई खबरों को लेकर सवाल उठाने वाला यह लड़का पूछताछ के बाद यहां से भाग गया था। दुबई की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका के स्थायी निवासी वांग जिंगयू को तुर्की के इस्तांबुल जाते वक्त संयुक्त अरब अमीरात के अधिकारियों द्वारा अप्रैल में गिरफ्तार किया गया था।

रेडियो फ्री एशिया (आरएफए) ने 27 मई को खबर दी कि चीन से निकले लड़के को पारगमन के दौरान दुबई पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया था, जिसके बाद 20 मई को उसने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मदद के लिए संदेश भेजा था।

कार्यकर्ताओं और उसके समर्थकों ने कहा कि सादी वर्दी में पुलिस अधिकारियों ने वांग को तब गिरफ्तार किया जब वह न्यूयॉर्क की कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने की कोशिश के तहत अमीरात की एक उड़ान से अप्रैल में दुबई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर उतरा था। आरएफए की खबर में कहा गया कि विदेश विभाग ने उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए इस मामले को “मानवाधिकार” चिंता का मामला बताया और चेतावनी दी कि उसे चीन में प्रत्यर्पण का सामना करना पड़ सकता है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन से जब दुबई में वांग जिंग्यू की गिरफ्तारी और रिहाई पर टिप्पणी के लिये कहा गया तो, उन्होंने कहा “मैंने प्रासंगिक रिपोर्ट पर संज्ञान लिया है।”उन्होंने सोमवार को यहां मीडिया से कहा, “जब हम बोल रहे हैं, सक्षम चीनी प्राधिकारी इस मामले की जांच कानून के मुताबिक कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि इस घटना को लेकर किसी तरह की कयासबाजी नहीं होनी चाहिए।

संयुक्त अरब अमीरात में आरएफए की मंदारिन सेवा से बात करते हुए वांग जिंग्यू ने कहा कि दुबई में विमान से उतरने के कुछ समय बाद ही उसे हिरासत में ले लिया गया।

उसने कहा, “मैं पारगमन सुरक्षा जांच क्षेत्र की तरफ बढ़ने ही वाला था, तभी अचानक मुझे बिना किसी कारण के गेट पर रोका गया।” जिंग्यू ने आरएफए को बताया, “मुझ पर लगे आरोपों को हवा दी गई।”उसने कहा कि उसे हिरासत में लिये जाने के पीछे चीनी सरकार हो सकती है और आपराधिक मामले के बहाने उसे चीन लौटने को मजबूर किया जा सकता है।

संबंधित खबरें