ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशअफगानिस्तान, आतंकवाद और.. आज PM मोदी और बाइडेन के बीच किन मसलों पर होगी बात

अफगानिस्तान, आतंकवाद और.. आज PM मोदी और बाइडेन के बीच किन मसलों पर होगी बात

आज संयुक्त राज्य अमेरिका में अपनी तीन दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात करेंगे। दोनों शीर्ष नेताओं की ये मुलाकात काफी अहम है. आज पूरी दुनिया की...

अफगानिस्तान, आतंकवाद और.. आज PM मोदी और बाइडेन के बीच किन मसलों पर होगी बात
Gaurav Kalaहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीFri, 24 Sep 2021 09:49 AM
ऐप पर पढ़ें

आज संयुक्त राज्य अमेरिका में अपनी तीन दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात करेंगे। दोनों शीर्ष नेताओं की ये मुलाकात काफी अहम है. आज पूरी दुनिया की नजरें व्हाइट हाउस पर रहेंगी। उम्मीद जताई जा रही है कि दोनों नेताओं के बीच अफगानिस्तान की स्थिति, सीमापार आतंकवाद और कोरोना पर विस्तार से चर्चा हो सकती है। बता दें कि इस साल जनवरी में अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद बाइडेन के साथ पीएम मोदी की यह पहली मुलाकात होगी। 

कोरोना संकट काल के दौरान पीएम मोदी की ये पहली बड़ी विदेशी यात्रा भी है। इससे पहले, पीएम मोदी ने 2014 में प्रधानमंत्री के रूप में अपनी पहली अमेरिका यात्रा के दौरान बाइडेन से मुलाकात की थी। बाइडेन उस वक्त राष्ट्रपति बराक ओबामा सरकार में उपाध्यक्ष थे। जनवरी में डेमोक्रेटिक पार्टी की जीत के बाद बाइडेन ने अमेरिकी राष्ट्रपति की कुर्सी संभाली थी. अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद दोनों नेताओं ने कई मौकों पर बात की है।

आज पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। इस वक्त सबसे बड़ा मुद्दा अफगानिस्तान है। जिस तरह भारत के पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान अफगानिस्तान में तालिबान सरकार को समर्थन दे रहे हैं। उससे भारत को झटका लगा है। इसे लेकर भारत अमेरिकी से अहम वार्ता कर सकता है। अफगानिस्तान के अलावा पीएम मोदी और जो बाइडेन के बीच सीमापार में आतकंवाद का बढ़ता प्रभाव और कोरोना महामारी से निपटने में नई चुनौतियां जैसे अहम मुद्दे हो सकते हैं। 

इस संबंध में अमेरिकी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रायटर एजेंसी को बताया कि क्वाड समूह - संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया और भारत देश के नेताओं की व्यक्तिगत बैठक शुक्रवार(आज) होगी। जिसमें कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

इस क्वाड सम्मेलन का उद्देश्य चीन के बढ़ते प्रभुत्व के बीच हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग को बढ़ावा देना है। विदेश मंत्रालय (MEA) ने 14 सितंबर को एक बयान में कहा था कि सभी शीर्ष नेता 12 मार्च को हुए अपने पहले शिखर सम्मेलन के बाद हुई प्रगति की भी समीक्षा करेंगे और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

गुरुवार की बात करें तो पीएम मोदी ने अमेरिकी की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के दौरान अमेरिकी उपराष्ट्रपति की प्रशंसा करते हुए पीएम ने उन्हें "प्रेरणा" के रूप में संदर्भित किया था. उन्हें "परिवार" की संज्ञा दी और "असली दोस्त" कहा.  पीएम मोदी ने कहा था, "सबसे पुराना लोकतंत्र और सबसे बड़ा लोकतंत्र आपस में स्वाभाविक मित्र हैं, हमारे मूल्य भी समान हैं।"

इस दौरान पीएम मोदी ने गुरुवार को क्वालकॉम, ब्लैकस्टोन, एडोब, फर्स्ट सोलर और जनरल एटॉमिक्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से भी मुलाकात की।
पीएम मोदी ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन से भी मुलाकात की, जिसे मॉरिसन ने "उपयोगी" बताया और कहा कि हम दोनों नेता दोनों देशों के बीच साझेदारी को और गहरा करना चाहते हैं। मॉरिसन ने ट्वीट किया, "अमेरिकी यात्रा के दौरान मेरे अच्छे दोस्त भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर बहुत अच्छा लगा। क्वाड में पहली व्यक्तिगत बैठक से पहले हमारे बीच एक व्यापक और उपयोगी चर्चा हुई, हम दोनों देशों के बीच साझेदारी को और गहरा करना चाहते हैं।" 

अमेरिकी यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री मोदी और उनके जापानी समकक्ष योशीहिदे सुगा की वाशिंगटन में बैठक हुई। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने ट्वीट किया कि "जापान के साथ दोस्ती को आगे बढ़ाया जाएगा। प्रधान मंत्री मोदी और जापान प्रधानमंत्री की वाशिंगटन डीसी में एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। दोनों नेताओं ने व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों को और बढ़ावा देने के तरीकों सहित कई मुद्दों पर चर्चा की।"

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने तीन दिवसीय अमेरिकी दौरे पर हैं। पहले दिन उन्होंने कई कंपनियों के सीईओ, जापान-ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्रियो और कमला हैरिस से मुलाकात की। आज उनकी मुलाकात अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइजेन से होगी। इसके बाद पीएम मोदी को संयुक्त राष्ट्र महासभा में संबोधन देना है. बता दें कि कोरोना संकट काल में पीएम मोदी का ये पहला बड़ा विदेशी दौरा है.