pm modi addresses indian public in sweden says we will transform india - नॉर्डिक सम्मेलन: भारत-नॉर्डिक देशों ने संबंध मजबूत करने का संकल्प लिया DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नॉर्डिक सम्मेलन: भारत-नॉर्डिक देशों ने संबंध मजबूत करने का संकल्प लिया

पीएम मोदी

पीएम मोदी ने मंगलवार को स्वीडन, नॉर्वे, फिनलैंड, आइसलैंड और डेनमार्क के प्रधानमंत्रियों के साथ भारत एवं नॉर्डिक देशों के बीच सहयोग बेहतर बनाने का संकल्प लिया। इन नेताओं ने सुरक्षा, आर्थिक वृद्धि एवं जलवायु परिवर्तन जैसे अहम मुद्दों पर भी चर्चा की। मोदी और पांच नॉर्डिक देशों के नेताओं ने भारत और स्वीडन की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किए गए पहले भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया। 

सम्मेलन के बाद जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया, ' प्रधानमंत्रियों ने भारत और नॉर्डिक देशों के बीच सहयोग बेहतर बनाने की प्रतिज्ञा ली और वैश्विक सुरक्षा, आर्थिक वृद्धि, नवोन्मेष एवं जलवायु परिवर्तन से जुडे अहम मुद्दों पर अपनी चर्चा को फोकस किया। उन्होंने माना कि नवोन्मेष एवं डिजिटल बदलाव एक-दूसरे से जुड़ी इस दुनिया में वृद्धि की संभावनाएं बढ़ाता है, जो भारत एवं नॉर्डिक देशों के बीच बढ़ते संबंधों में काफी अहम है।  
        
नॉर्डिक देशों में डेनमार्क, फिनलैंड, आइसलैंड, नॉर्वे और स्वीडन शामिल हैं। सम्मेलन से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने सभी पांच नॉर्डिक देशों के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय बैठकें की। मोदी अपनी पांच दिवसीय विदेश यात्रा के पहले चरण में यहां पहुंचे हैं। इसके बाद वह ब्रिटेन और जर्मनी जाएंगे। 

स्वीडन ने भारत की एनएसजी सदस्यता की मांग का समर्थन किया

स्वीडन ने भारत की परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की सदस्यता की मांग का समर्थन करते हुए नई दिल्ली के वासेनार अरेंजमेंट एवं मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था समेत हाल में अंतरराष्ट्रीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था में शामिल होने का स्वागत किया। स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वार्ता के दौरान भारत को अपने देश का समर्थन देने की बात कही।  स्वीडन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के विस्तार और सुधार के बाद उसमें भारत की स्थायी सदस्यता का भी समर्थन किया। 48 सदस्य देशों वाले परमाणु समूह में भारत की सदस्यता का मुख्य रूप से चीन यह कहते हुए विरोध कर रहा है कि भारत ने अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किया है। 
    
नॉर्डिक देशों के साथ मोदी ने द्विपक्षीय बैठकें की
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नॉर्डिक देशों फिनलैंड, डेनमार्क, आइसलैंड और नॉर्वे के प्रधानमंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठकें कीं। इन बैठकों में नॉर्डिक देशों के साथ व्यापार और निवेश एवं अक्षय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में संबंधों को आगे बढ़ाने पर विचार विमर्श किया गया। मोदी ने भारत-नॉर्डिक शिखर बैठक के मौके पर अलग से द्विपक्षीय बैठकें कीं।   

दो साल में 1.1 अरब डॉलर का निवेश करेंगी कंपनियां
स्टॉकहोम सिटी हॉल में मोदी ने स्वीडन के शीर्ष उद्योगपतियों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि मजबूत द्विपक्षीय संबंध दोनों देशों के लोगों के लिए बेहतर साबित होंगे। भारत में स्वीडन के व्यापार आयुक्त कार्सटन ग्रोनब्लैड ने कहा कि करीब 30 सीईओ या कंपनियों के प्रतिनिधि इस बैठक में शामिल हुए। स्वीडन की कंपनियों ने अगले दो साल में भारत में 1.1 अरब डॉलर का निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई है। उन्होंने बताया कि पिछले तीन साल के दौरान स्वीडन की कंपनियां पहले ही भारत में डेढ़ अरब डॉलर का निवेश कर चुकी हैं।  

ब्रिटेन में मोदी का होगा विरोध प्रदर्शनों से सामना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रिटेन की यात्रा के दौरान यहां के पार्लियामेंट स्क्वायर में विभिन्न समूहों ने कई प्रदर्शन करने की योजना बनाई है जिनमें जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आठ साल की एक लड़की से बलात्कार एवं हत्या की घटना की निंदा की जाएगी। प्रदर्शन में एक मूक विरोध प्रदर्शन भी शामिल है। मूक प्रदर्शन का आयोजन ब्रिटेन के कुछ भारतीय महिला समूह कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pm modi addresses indian public in sweden says we will transform india