DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द करना स्वीकार नहीं, यह UN प्रस्तावों का उल्लंघन: PAK

pakistan

पाकिस्तान ने कहा कि वह कश्मीर में भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द किया जाना स्वीकार नहीं करेगा क्योंकि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है। अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर के संबंध में एक “अस्थायी प्रावधान” है। यह केंद्रीय एवं समवर्ती सूचियों के तहत आने वाले विषयों पर कानून बनाने की संसद की शक्तियों को सीमित कर संविधान के विभिन्न प्रावधानों की व्यावहारिकता पर रोक लगाता है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के मुद्दे पर शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन होगा। उन्होंने कहा, “भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करना संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है। हम इसे किसी भी परिस्थिति में स्वीकार नहीं करेंगे और कश्मीर के लोग भी इसे स्वीकार नहीं करेंगे।” गौरतलब है कि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने राज्य में अनुच्छेद 370 को हटाने के प्रति पार्टी की प्रतिबद्धता बार- बार दोहराई है।

अमित शाह अनुच्छेद 370 को रद्द करने का 'दिन में सपना' देख रहे हैं: महबूबा मुफ्ती

इससे पहले पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने भी बीते बृहस्पतिवार को कहा था कि अगर जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त किया जाता है तो राज्य के साथ देश के संवैधानिक रिश्ते 'कब्जे वाले और औपनिवेशिक हो जाएंगे। पूर्व मुख्यमंत्री लोकसभा चुनाव से पहले इस मुद्दे को उठा रही हैं। उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा को चेतावनी दी कि अनुच्छेद 35-ए और अनुच्छेद 370 के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की जाए।

उत्तर कश्मीर के बारामूला जिले में संगरमा तथा शीरी इलाकों में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मुफ्ती ने कहा कि भाजपा अनुच्छेद 35-ए और अनुच्छेद 370 पर निशाना साधकर जम्मू कश्मीर तथा संघ के संवैधानिक और कानूनी रिश्तों को औपचारिक रूप से कब्जे वाले बनाने पर उतारू है।

उन्होंने कहा, 'अमित शाह साहब आप से कह रहे हैं, जिस दिन आप 370 को खत्म करोगे, जम्मू-कश्मीर में आपका कब्जा (बलपूर्वक अधिकार) रह जाएगा, जिस तरह फिलिस्तीन पर इजरायल का कब्जा है उसी तरह जम्मू कश्मीर में हिन्दुस्तान का कब्जा हो जाएगा, अगर आपने 370 को खत्म किया।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pakistan Will not accept abrogation of Article 370 in Kashmir