DA Image
26 जुलाई, 2020|7:33|IST

अगली स्टोरी

चीन से नजदिकियों का पाकिस्तान को हो सकता नुकसान, ड्रैगन के साथ अपनी नीति की समीक्षा का भारी दबाव

pakistan pm imran khan  file pic

पूर्वी लद्दाख में भारतीय सेना के साथ हिंसक झड़प की घटना के बाद अब पाकिस्तान के ऊपर इस बात का भारी दबाव बढ़ता जा रहा है कि वह चीन को लेकर या तो अपनी नीति की समीक्षा करे अन्यथा वैश्विक बहिष्कार और आलोचना झेलने के लिए तैयार हो जाए।

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि विदेश मंत्रालय ने इमरान खान के प्रधानमंत्री कार्यालय को बताया कि या तो वह चीन के साथ अपने संबंधों को लेकर फौरन अपनी नीति सही करे या नहीं तो फिर उसे उन आर्थिक महाशक्तियों के गुस्सा का खामियाजा भुगतना होगा जो कोविड-19 महामारी के दौरान भारत के साथ चीन के आक्रामक तेवर के चलते उसे अलग-थलग करने को लेकर संकल्पित है।

इस बात का पहला संकेत उस वक्त मिला जब चीन की हर बात में समर्थन करने वाले पाकिस्तान की एयरलाइन पीआईए को यूरोपीय यूनियन ने बैन लगाते हुए यूरोप में उसके विमान को लैंडिंग करने की इजाजत नहीं दी। पाकिस्तान ने यूरोपीय यूनियन को यह पूरी तरह से समझाने का प्रयास किया कि सिर्फ अंतरराष्ट्रीय क्वालीफाईड पायलट्स ही उन मार्गों में उड़ान भरेंगे लेकिन ईयू ने सुनने से साफ इनकार कर दिया।

ये भी पढ़ें: 6 बार जवानों के बीच पहुंच चुके हैं PM मोदी, पहले भी सख्त संदेश देते रहे हैं प्रधानमंत्री

भारत के खिलाफ चीन के आक्रामक तेवर के बाद यूरोपीय यूनियन अब बीजिंग को कूटनीतिक स्तर पर अलग-थलग करने पर लगा है। ऐसे में पाकिस्तानी सूत्रों को ऐसा लगा रहा है कि पाकिस्तान का इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। पाकिस्तान में चीन के खिलाफ पहले से ही काफी गुस्सा है, खासकर बलूचिस्तान और गिलगित बाल्टिस्तान में जिस तरह चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपैक) को लेकर पाकिस्तानी संसधानों का दोहन किया जा रहा है और स्थानीय लोगों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। बलूच और गिलगित बालटिस्तान के लोगों को स्थानीय नौकरियां नहीं दी जाती है, बल्कि चीन की कंपनियां इस काम के लिए चाइनीज मजदूरों को प्राथमिकता देती है।

इसके अलावा, चीन की कंपनियां स्थानीय परंपरा और रीति-रिवाजों से बेपरवाह हैं और स्थानीय लोगों से खुद को अलग किए हुए हैं। इसलिए, वे उन्हें शक की निगाहों से देखते हैं। यह बात भी फैली है कि चीन ने भारत की जमीन हड़प ली और वह पाकिस्तान के अग्रिम हिस्से में भी ऐसा कर सकता है। चीनी सरकार की तरफ से उइगर मुसलमानों पर जुल्मों सितम भी कई धार्मिक व्हाट्सएप् ग्रुप में चर्चा के विषय बना हुआ है।

ये भी पढ़ें: भारत-चीन विवाद के बीच होटल संचालकों का फैसला,चीन-पाक के यात्रियों के लिए रूम नहीं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pakistan under heavy pressure to review its policy from China