DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  नहीं सुधरा चीन, पाकिस्तान पर फिर दिखाई दरियादिली, अब देगा 2.1 अरब डॉलर का कर्ज

विदेश नहीं सुधरा चीन, पाकिस्तान पर फिर दिखाई दरियादिली, अब देगा 2.1 अरब डॉलर का कर्ज

इस्लामाबाद, एजेंसीPublished By: Arun
Fri, 22 Mar 2019 02:48 PM
 नहीं सुधरा चीन, पाकिस्तान पर फिर दिखाई दरियादिली, अब देगा 2.1 अरब डॉलर का कर्ज

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को सदाबहार दोस्त चीन से सोमवार तक दो अरब डॉलर का कर्ज मिल जाएगा। पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने इसकी घोषणा की है। पाकिस्तान के अखबार 'डॉन के अनुसार, मंत्रालय के सलाहकार एवं प्रवक्ता खक्कान नजीब खान ने कहा कि चीन से मिलने वाले 2.1 अरब डॉलर के कर्ज के लिये सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गयी हैं। उन्होंने कहा कि राशि 25 मार्च तक स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के खाते में जमा हो जाएगी।

प्रवक्ता ने कहा कि इस कर्ज से विदेशी मुद्रा भंडार मजबूत होगा और भुगतान के स्थायित्व का संतुलन सुनिश्चित होगा। इससे पहले पाकिस्तान को मदद के तौर पर सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात से भी एक-एक अरब डॉलर मिल चुके हैं।

बालाकोट हवाई हमले पर सैम पित्रोदा ने किए सवाल- सचमुच हमने हमले किए

वहीं अमेरिका में ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि पाकिस्तान का बचाव नहीं करना और इस्लामाबाद से आतंकवादियों पर कार्रवाई के लिए कहना चीन की जिम्मेदारी है। उन्होंने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रयास में चीन द्वारा अवरोध पैदा करने पर भी चिंता जताई।

पाकिस्तान का बचाव करने पर अमेरिका ने चीन को लताड़ा

अमेरिकी अधिकारी ने कहा, ''हमारा मानना है कि चीन की यह जिम्मेदारी है कि वह पाकिस्तान का बचाव नहीं करे और साथ ही आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करने के लिए पाकिस्तान का आह्वान करने में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ खड़ा हो। पुलवामा आतंकी हमले के बाद मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने का प्रयास किया गया था, लेकिन चीन ने इससे जुड़े प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 'तकनीकी रोक लगा दी थी।

अमेरिका ने पाकिस्तान को आगाह करते हुए कहा है कि भारत में एक और आतंकवादी हमला उसके लिए गंभीर संकट पैदा कर देगा। अमेरिका ने साथ ही पाकिस्तान से उसकी सरजमीं पर फल-फूल रहे आतंकवाद और उसके आकाओं के खिलाफ टिकाऊ, प्रामाणिक और सतत कार्रवाई करने की मांग की है। व्हाइट हाउस ने कहा, 'हम पाकिस्तान की तरफ से उसकी धरती पर पल रहे आतंकवाद, खासकर जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा जैसे संगठनों के खिलाफ टिकाऊ और प्रामाणिक कार्रवाई देखना चाहते हैं। जिससे उस क्षेत्र में एक बार फिर से युद्ध की स्थिति उत्पन्न ना हो।'

संबंधित खबरें