ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशसियासी और आर्थिक संकट में फंसे पाक की एक और मुसीबत, TTP ने कर दिया युद्ध का ऐलान

सियासी और आर्थिक संकट में फंसे पाक की एक और मुसीबत, TTP ने कर दिया युद्ध का ऐलान

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने सरकार के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर दिया है। ऐसे में सियासी संकट और आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान की मुसाबित और बढ़ गई है।

सियासी और आर्थिक संकट में फंसे पाक की एक और मुसीबत, TTP ने कर दिया युद्ध का ऐलान
Ankit Ojhaएजेंसियां,इस्लामाबादWed, 30 Nov 2022 09:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

आर्थिक और सियासी संकट से घिरे पाकिस्तान के सामने एक और बड़ी मुसीबत आने वाली है। आतंक को पनाह देने वाला पाकिस्तान खुद आतंक की बारूद के ढेर पर बैठा है। पाकिस्तान तालिबान ने यहां युद्ध का ऐलान कर दिया है। जून में पाकिस्तान तालिबान और सरकार के बीच सीजफायर का समझौता हुआ था। लेकिन अब क्वेटा में विस्फोट करके पाकिस्तान तालिबान मे मोर्चा खोल दिया है। 

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने एक बयान में कहा कि उन्होंने बलूचिस्तान में पुलिस को टारगेट करके अपने प्रवक्ता अब्दुल वाली की हत्या का बदला लिया है। पाकिस्तान में बैन आतंकी संगठन ने अपने लड़ाकों को हमला करने का आदेश दे दिया है। खास बात यह है कि अभी कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान में नए सेना प्रमुख की नियुक्ति हुई है। ऐसे में देखना है कि पाकिस्तानी सेना तालिबान से निपटने के लिए क्या उपाय निकालेगी। 

वहीं बात करें सियासी संकट की तो पाकिस्तान में यह कम होता नजर नहीं आ रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और मौजूदा पीएम शहबाज शरीफ के बीच कुर्सी के लिए चल रही जंग पाकिस्तान को आर्थिक संकट के गहरे गड्ढे में धकेल रहे हैं। देश को संकट से उबारने की जगह दोनों ही नेता आपसी दुश्मनी में ही व्यस्त हैं और एक दूसरे को धमकी दे रहे हैं। 

बता दें कि तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) का जन्म 2007 में हुआ था। पाकिस्तानी जिहादी जो अफगानिस्तान में 1990 में तालिबान के साथ थे। इसके बाद इस्लामाबाद ने अमेरिका का साथ दिया। पाकिस्तान का यह तालिबानी ग्रुप अफगानिस्तान तालिबान से अलग है लेकिन यह उसी का सहयोगी माना जाता है। अफगानिस्तान में तालिबानी कब्जा होने के बाद पाकिस्तान में भी तालिबान मजबूत हो गया है। 

जब से काबुल में तालिबान राज आया है पाकिस्तान में भी आतंकी हमलों में 51 फीसदी की वृद्धि हुई है। 13 अगस्त 2021 से 14 अगस्त 2022 के बीच 250 आतंकी हमले हुए जिनमें 433 लोगों की जान गई। इनमें 719 लोग घायल हुए। बीते तीन महीने में 132 आतंकी हमले हो चुके हैं।