Thursday, January 20, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशनाक तक कर्ज में डूबे पाक की हालत हो रही पतली, रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे

नाक तक कर्ज में डूबे पाक की हालत हो रही पतली, रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे

एएनआई,इस्लामाबादGaurav Kala
Sat, 04 Dec 2021 11:00 PM
नाक तक कर्ज में डूबे पाक की हालत हो रही पतली, रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे

इस खबर को सुनें

चीन के कर्ज में पाकिस्तान इस कदर डूब चुका है कि उस पर भारी वित्तीय संकट गुजर रहा है। हालांकि इस बीच एक अच्छी खबर ये भी है कि कर्ज में नाक तक डूब चुके पाकिस्तान की मदद के लिए सऊदी अरब सामने आया है। सऊदी अरब पाकिस्तान को 1.5 बिलियन अमरीकी डॉलर की मदद करने को राजी हो गया है। हालांकि इस बीच एक चौंकाने वाली रिपोर्ट में पाकिस्तान की खराब हालत सामने आई है। 

मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि 14 बिलियन अमेरिकी डॉलर के कर्ज को कम करने के लिए पाकिस्तान की हालत टाइट होती जा रही है। पाक विशेषज्ञों का मानना है कि पाकिस्तान को बीजिंग के वित्तीय अधिकारियों से अपने ऋणों को पुनर्निर्धारित करने के लिए कहना चाहिए। एशिया टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, ऐसे समय में स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान पर दबाव और बढ़ गया है जब बैंक का विदेशी भंडार अक्टूबर में गिरकर 17 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया।

इससे पहले अप्रैल में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने पाक को चेतावनी दी थी कि नीतिगत फैसलों और बढ़ती देनदारियों के कारण पाकिस्तान की सार्वजनिक ऋण स्थिरता को कम किया जा रहा है। विश्व बैंक की ऋण रिपोर्ट 2021 में दक्षिण एशियाई देशों के ऋणों का विश्लेषण किया गया है। इस रिपोर्ट ने पाकिस्तान को भारत और बांग्लादेश से काफी पीछे दिखाया है। रिपोर्ट में इस बात पर भी जोर दिया गया है कि पाक की तुलना कर्ज में डूबे श्रीलंका से की जा सकती है।

डब्ल्यूबी की रिपोर्ट के अनुसार, 80 प्रतिशत से अधिक ऋण-से-जीडीपी अनुपात वाले देशों में श्रीलंका के बाद पाकिस्तान दूसरा देश था। लेकिन अगर पाकिस्तान के शुद्ध राजस्व, प्रांतों के हिस्से को छोड़कर, की गणना की जाती है, तो यह श्रीलंका से भी अधिक रैंक करता है।

इससे पहले शुक्रवार को पाकिस्तान की सीनेट को बताया गया कि इस अवधि में आंतरिक कर्ज 16 लाख करोड़ रुपये (91 अरब डॉलर) से बढ़कर 26 लाख करोड़ रुपये (14 करोड़ डॉलर) हो गया है। इसी तरह, इसी अवधि में विदेशी कर्ज 8.5 लाख करोड़ रुपये (48.3 अरब डॉलर) से बढ़कर 14.5 लाख करोड़ रुपये (83 अरब डॉलर) हो गया। इन ऋणों पर पाक मंत्रालय ने कहा, सरकार ने एशिया टाइम्स के अनुसार, ब्याज के रूप में रु 7.46 ट्रिलियन (42.4 बिलियन अमेरिकी डालर) का भुगतान किया है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें