ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशबकरीद पर प्लास्टिक के दांत वाले बकरे बेचने का मामला, वायरल वीडियो से कराची में सनसनी

बकरीद पर प्लास्टिक के दांत वाले बकरे बेचने का मामला, वायरल वीडियो से कराची में सनसनी

पुलिस की पूछताछ में आरोपी व्यापारी ने स्वीकार किया कि वह प्लास्टिक के दांतों वाले बलि के बकरे बेचने में शामिल था। रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने घटना की जांच के तहत 7 दूसरे बकरे भी जब्त किए हैं।

बकरीद पर प्लास्टिक के दांत वाले बकरे बेचने का मामला, वायरल वीडियो से कराची में सनसनी
pakistan karachi man arrested for selling sacrificial goat
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,इस्लामाबादSat, 15 Jun 2024 08:27 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान के कराची में प्लास्टिक के दांतों वाले बलि के बकरे बेचने का मामला सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने शनिवार को गुलबर्ग चौरंगी इलाके से इस मामले में एक व्यापारी को गिरफ्तार किया। दरअसल, सोशल मीडिया पर इससे जुड़ा एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें ग्राहक को बकरे से प्लास्टिक के दांत निकालते हुए देखा गया। इसे लेकर कानून प्रवर्तन एजेंसियों की ओर से तुरंत कार्रवाई की गई। गिरफ्तार व्यापारी से पुलिस अधिकारियों की पूछताछ जारी है। इससे पता चला कि आरोपी हैदराबाद का रहने वाला है। वह ईद उल अजहा के मौके पर जानवर बेचने के लिए कराची आया था। 

पुलिस की पूछताछ में व्यापारी ने स्वीकार किया कि वह प्लास्टिक के दांतों वाले बलि के बकरे बेचने में शामिल था। रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने घटना की जांच के तहत 7 दूसरे बकरे भी जब्त किए हैं। पुलिस अधिकारी ने कहा, 'सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे वीडियो से हमें कृत्रिम दांतों वाले बकरों की बिक्री के बारे में जानकारी मिली। इस पर ऐक्शन लेते हुए हमने आरोपी व्यापारी को गिरफ्तार किया है। पूछताछ अभी जारी है। इस दौरान जो जानकारियां निकलकर सामने आएंगी, उनके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।' 

जानें कब मनाया जाएगा ईद-उल-अजहा का त्योहार 
मालूम हो कि ईद उल अजहा का त्योहार 17 जून को मनाया जाएगा। विभिन्न मुस्लिम धर्म गुरुओं ने यह जानकारी दी है। ईद उल फित्र के विपरीत बकरीद का त्योहार चांद दिखने के 10वें दिन मनाया जाता है। इस्लामी कैलेंडर में 29 या 30 दिन होते हैं जो चांद दिखने पर निर्भर करते हैं। ईद उल ज़ुहा या अज़हा या बकरीद, ईद उल फित्र के 2 महीने 9 दिन बाद मनाई जाती है। तीन दिन चलने वाले त्योहार में मुस्लिम समुदाय के लोग अपनी हैसियत के हिसाब से उन पशुओं की कुर्बानी देते हैं, जिन्हें कानूनों के तहत प्रतिबंधित नहीं किया गया है।