DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  'आतंकवाद रोकने के पाकिस्तान की नई कोशिशों के बाद अमेरिका क्षेत्र में बढ़ाएगा व्यापार'

विदेश'आतंकवाद रोकने के पाकिस्तान की नई कोशिशों के बाद अमेरिका क्षेत्र में बढ़ाएगा व्यापार'

भाषा,इस्लामाबादPublished By: Rakesh
Thu, 27 Feb 2020 09:11 PM
'आतंकवाद रोकने के पाकिस्तान की नई कोशिशों के बाद अमेरिका क्षेत्र में बढ़ाएगा व्यापार'

पाकिस्तान के आतंकवाद से लड़ने और सुरक्षा उपायों को बढ़ाने के ताजा प्रयासों को देखते हुए अमेरिका द्विपक्षीय और क्षेत्रीय स्तर पर व्यापार संबंधों को आगे बढ़ा रहा है। अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस ने देश के शीर्ष नेतृत्व के साथ मुलाकात के बाद यह बात कही। रॉस बुधवार (26 फरवरी) को इस्लामाबाद आए थे। इससे एक दिन पहले ही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बहुचर्चित पहली भारत यात्रा संपन्न हुई है। 

रॉस ने यहां प्रधानमंत्री इमरान खान, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ओर ऊर्जा मंत्री उमर अयूब खान के साथ बैठक की। रॉस ने बयान में कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप और प्रधानमंत्री इमरान खान के बीच हुई रचनात्मक बातचीत से आगे मैंने प्रधानमंत्री और उनकी आर्थिक टीम से इस्लामाबाद में मुलाकात की। इस बैठक में ऊर्जा और डिजिटल सहित विभिन्न क्षेत्रों में अमेरिका-पाकिस्तान के व्यापार और निवेश संबंधों को आगे बढ़ाने पर चर्चा हुई। रॉस ने कहा, ''हमारे आर्थिक रिश्तों को मजबूत करने से दोनों देशों को उल्लेखनीय लाभ होगा।"

अमेरिका के वाणिज्य मंत्री ने राष्ट्रपति ट्रंप के नई दिल्ली में उस बयान का उल्लेख किया जिसमें उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ हमारे संबंध काफी अच्छे हैं। रॉस ने इस बात का भी उल्लेख किया कि अमेरिका पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा निर्यात गंतव्य है। अमेरिकी कंपनियों का पाकिस्तान में कारोबार करने का लंबा इतिहास रहा है। अमेरिकी कंपनियों ने पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि में योगदान दिया है और बेहतर नौकरियां उपलब्ध कराई हैं।

रॉस ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद से लड़ने और सुरक्षा को बढ़ाने के लिए जो काम शुरू किया है उसकी वजह से ही अमेरिका को पाकिस्तान के साथ क्षेत्र में और दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ाने का मौका मिला है। पाकिस्तान को सख्त संदेश देते हुए भारत और अमेरिका ने मंगलवार को कहा था कि उसे (पाकिस्तान को) यह सुनिश्चित करना होगा कि उसके नियंत्रण वाले किसी भी क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकवादी हमले के लिए नहीं किया जा सके।

संबंधित खबरें