DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशपाकिस्तानः इमरान की पहली पसंद चीन, भारत आखिरी, अलापे कश्मीर राग

पाकिस्तानः इमरान की पहली पसंद चीन, भारत आखिरी, अलापे कश्मीर राग

एजेंसी,इस्लामाबादGunateet
Fri, 27 Jul 2018 05:12 AM
पाकिस्तानः इमरान की पहली पसंद चीन, भारत आखिरी, अलापे कश्मीर राग

पाकिस्तान के आम चुनाव में जीत के बाद पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के प्रमुख इमरान खान ने गुरुवार को अपने पहले संबोधन में विदेश नीति का खाका पेश किया। इसमें इमरान की पहली पसंद चीन रहा जबकि भारत आखिरी। 

संबोधन के दौरान इमरान ने नया पाकिस्तान बनाने का वादा किया। इसके बाद चीन, अफगानिस्तान, सऊदी अरब, ईरान और अमेरिका के साथ संबंधों पर बात की। जबकि भारत का नाम सबसे बाद में लिया। इस दौरान इमरान ने चीन से सीख लेने की बात कही तो वहीं भारत को सबक की सलाह दे डाली। इमरान ने कश्मीर राग अलापते हुए कहा कि भारत और पाकिस्तान बातचीत के जरिए ही इस मसले को सुलझा सकते हैं। 
 
भारत से बेहतर संबंध की चाहत

इमरान ने कश्मीर मुद्दे को बड़ी समस्या बताया। उन्होंने कहा कि इस मसले का हल करना जरूरी है। मैं चाहता हूं कि भारत से संबंध बेहतर हों और उसके साथ बातचीत आगे बढ़ाना चाहता हूं। इमरान ने कहा, मुझे अफसोस हुआ कि हिंदुस्तान के मीडिया ने मुझे ऐसे दिखाया जैसे मैं किसी बॉलीवुड फिल्म का विलेन हूं। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि पाकिस्तान-हिंदुस्तान के रिश्ते बेहतर होते हैं तो हमारे लिए अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि भारत  एक कदम बढ़ाएंगे, हम दो कदम बढ़ाएंगे।  

प्रधानमंत्री बनना तय

इमरान खान का प्रधानमंत्री बनना तय हो गया है। उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ को 120 (98 सीट जीती) सीटों पर बढ़त के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरती हुई दिख रही है। जबकि मुख्य प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) 65 (49 सीट जीती) सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।  पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 44 सीटों पर आगे चल रही है और अन्य ने 17 सीटों पर बढ़त बनाई है।

पढ़ें इमरान के संबोधन की दस बातें :

1. जिन्ना के सपनों का पाकिस्तान

उन्होंने कहा कि वह कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना के सपनों का पाकिस्तान बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि अब मुझे मौका मिला है कि मैं वो काम करूं जो मैं 22 साल पहले करने निकला था। उन्होंने बताया कि मैं राजनीति में इसलिए आया था क्योंकि यह मुल्क ऊपर जाते समय नीचे आने लगा था। मैं चाहता हूं कि हमारा देश फिर से बड़ा बने। 

2. छोटे आवास में रहूंगा

इमरान ने कहा कि हमारी सरकार में सादगी होगी। यहां के चुने हुए नेता पैसा खुद पर खर्च करते हैं। टैक्स देने वाले लोगों के पैसे बेदर्दी से खर्च किए जाते हैं। देश के टैक्स के पैसे की मैं हिफाजत करूंगा। हमारी सरकार यह तय करेगी कि गवर्नर हाउस का क्या करना है। उसमें स्कूल चलाया जाएगा या फिर जनता के कुछ और काम के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। मैं एक छोटे से घर में रहूंगा। 

3. भ्रष्टाचार खत्म करेंगे

इमरान ने कहा कि मैं ये साबित कर के दिखाऊंगा कि मेरी सरकार किसी को खिलाफ नहीं है। जो कानून तोड़ेगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। जिम्मेदारी की शुरुआत मुझेसे शुरू होगी। भ्रष्टाचार इस देश को खा रहा है। इसे खत्म करने के लिए कानून सबके लिए एक होगा।

4. बच्चों और महिलाओं के विकास की बात

इमरान ने कहा कि पाकिस्तान उस तरह का मुल्क बने जहां एक कमजोर के साथ वो खड़ा हो सके। उन्होंने हमारे 45 फीसदी बच्चे बीमार हैं। वो कुपोषण के शिकार हैं। हमारे देश की महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं नहीं मिलतीं। हम ऐसी योजना बनाना चाहते हैं जिससे यहां के लोगों का विकास हो सके। एक मुल्क की पहचान ये नहीं होती कि वहां के अमीर कैसे रहते हैं। उसकी पहचान ये होती है कि वहां के गरीब कितने खुश रहते हैं। मैं आज यह कहना चाहता हूं कि सारा पाकिस्तान एकजुट हो। 

5. सरकार की आर्थिक हालत ठीक करनी है

इमरान ने गहराते आर्थिक संकट पर बात की। उन्होंने कहा कि हमें पहले सरकार की हालत ठीक करनी है। फिर व्यापार का माहौल बनाना है। हम मौका देंगे कि बाहर रह रहे पाकिस्तानी यहां निवेश कर सकें। 

6. गंभीर आर्थिक संकट 

करीब 300 अरब डॉलर की पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था गंभीर संकट का सामना कर रही है। इस समय पाकिस्तान पर भारीभरकम कर्ज का बोझ है। आयात और निर्यात का संतुलन हद से ज्यादा खराब हो गया है। पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान वित्तीय वर्ष के पहले 10 महीने में पाकिस्तान का चालू खाता घाटा 14.03 अरब डॉलर तक पहुंच गया है। नई सरकार को एक बार फिर से 2013 की तरह आईएमएफ के पास जाना होगा। 2013 में आईएमएफ़ ने पाकिस्तान को 6.7 अरब डॉलर की आर्थिक मदद की थी। पाकिस्तान 1988 से अब तक 12 बार अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की शरण में जा चुका है।

7. बेरोजगारी की समस्या हल करेंगे

इमरान ने कहा कि हमारा देश दुनिया का दूसरा युवा देश है। हमारे सामने बेरोज़गारी की समस्या है। हम इसे हल करेंगे। हम पाकिस्तान को ऐसे चलाएंगे, जैसा पहले नहीं चलाया गया। 

8. विदेश नीति पर भी बोले

पीटीआई प्रमुख इमरान ने कहा कि विदेश नीति पर खास जोर होगा। हम चाहते हैं कि पड़ोसी देशों से हमारे रिश्ते अच्छे हों। 

9. चीन : चीन से हमे बहुत कुछ सीखना है। हमारी कोशिश होगी कि गरीबी मिटाने के लिए चीन के मॉडल की पहचान की जाए। चीन ने भ्रष्टाचार को खत्म किया, हम उनसे इस संदर्भ में सीखेंगे। इसके अलाव उन्होंने कहा कि  अफगानिस्तान के लोगों ने दुनिया में सबसे ज्यादा तकलीफें झेली हैं।  हमारी कोशिश होगी कि वहां अमन का माहौल बने।  हम चाहते हैं कि ऐसी स्थिति हो कि हमारी सीमाएं दोनों देशों के लिए खुली हों। 

10. अमरीका : अमरीका के साथ हमारे रिश्ते बेहतर हों। हम ऐसा रिश्ता चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच संतुलन बन सके। इसके अलावा सऊदी अरब पर उन्होंने कहा कि  सऊदी अरब हमारे साथ खड़ा रहता है। हम उसकी हर संभव मदद की कोशिश करेंगे। 

पाकिस्तान चुनावः महेश मलानी सिंध से जीतने वाले पहले हिंदू, जानें कौन-कौन से दिग्गज हारे और कौन आगे 

पाक चुनावः कप्तान से सुल्तान बनने जा रहे इमरान खान ने पाकिस्तान से किया ये वादा 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें