DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तानी सेना भारत के साथ चाहती है ‘शांति’

पाकिस्तान की सेना कट्टर प्रतिद्वंद्वी भारत के साथ संबंधों को सुधारना चाहती है। शीर्ष जनरलों ने खराब अर्थव्यवस्था पर चिंता जताई है क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ भी सामरिक संबंधों में बदलाव नजर आए हैं। वर्तमान और पूर्व पाकिस्तानी सैन्य अधिकारियों ने बताया कि धीमी अर्थव्यवस्था और बीजिंग से दबाव की वजह से पश्चिमी देशों के साथ संबंध सुधारे जा रहे हैं और जिसकी वजह से भारत के साथ भी संबंध सुधारने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा ट्रम्प की ओर से सिक्यूरिटी सहायता में 2 बिलियन डॉलर कटौती के बाद चीन पर अत्यधिक निर्भर रहना भी खतरे से खाली नहीं होगा। भारत के साथ एक विद्रोह के समर्थकों में पाकिस्तान के शक्तिशाली सेना प्रमुख जनरल कामर जावेद बाजवा हैं, जिन्होंने एक बार संयुक्त राष्ट्र शांति के मिशन के कार्यकाल के दौरान एक भारतीय जनरल के अधीन सेवा दी और उन्हें अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में अधिक उदार माना जाता है। ऑफिस के अपने अंतिम साल में प्रवेश करते हुए बाजवा ने पिछले हफ्ते सिख तीर्थयात्रियों के दौरे के लिए भारत के साथ सीमा नियंत्रण को कम करने के लिए कदम उठाया था।  सेना प्रमुख ने सार्वजनिक रूप से चीन के बेल्ट और रोड इनिशिएटिव का समर्थन किया है, जिसने 60 बिलियन डॉलर से अधिक परियोजनाओं के लिए वित्तपोषण जारी किया है, जिसकी वजह से कर्ज में वृद्धि की वज से पाकिस्तान को एक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की मांग करने के लिए मजबूर कर दिया है। लेकिन पश्चिमी राजनयिकों के मुताबिक, बीजिंग पर पाकिस्तान की अत्यधिक निर्भरता के बारे में उन्हें असहज माना जाता है, जिन्होंने पहचानने की मांग नहीं की ताकि वे वरिष्ठ जनरलों के बारे में स्वतंत्र रूप से बात कर सकें। अपने कार्यकाल की शुरूआत से, जनरल बाजवा 'नो पीस-नो वॉर' की स्थिति को समाप्त करने के इच्छुक थे, लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि विशाल पाकिस्तानी सेना के अंदर विचारों  में भेदभाव को बदलने में समय लगेगा, यह बात शुजा नवाज ने अपनी पुस्तक सशस्त्र बलों में कहीं है, जोकि पूर्व आईएमएफ अधिकारी भी है। वह वर्तमान में वाशिंगटन में अटलांटिक काउंसिल के दक्षिण एशिया केंद्र में एक प्रतिष्ठित कर्मचारी हैं।  यह एक शांति पहल शुरू करने के लिए एक और पहल हो सकती है।  सेना के प्रेस विभाग ने टिप्पणी के अनुरोध को मना कर दिया है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान, जिन्होंने जुलाई के चुनाव जीत भाषण में भारत के साथ बातचीत की मांग करके कई लोगों को आश्चर्यचकित किया था और कहा था कि उनकी राजनीतिक पार्टी और सेना एकजुट है ताकि कश्मीर क्षेत्र और उससे जुड़े विवादों को सुलझाया जा सके। उनकी सरकार 13 वें आईएमएफ के बकाया राशि की जमानत के लिए 1980 के दशक से प्रयत्नशील है।  अगस्त में कार्यभार संभालने के बाद, खान ने बार-बार ट्रम्प को उकसाया है।  कुछ हफ्ते पहले, ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका अब पाकिस्तान को अरबों डॉलर नहीं देता है क्योंकि पाकिस्तन आतंकवाद से लड़ने के लिए हमारा कहना नहीं मानता है। अब तक, इस बात का कोई संकेत नहीं मिला है कि पाकिस्तान ने ट्रम्प को सहायता धन देने पुनर्विचार करने के लिए प्रेरित किया हो, जो चरमपंथी समूहों को सुरक्षित आश्रय और आंदोलन की स्वतंत्रता से इनकार करने के अपर्याप्त प्रयासों के कारण कटौती की गई थी। इस्लामाबाद में अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता ने इस विषय पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। लेकिन, संकेत मिले हैं कि संबंधों में सुधार हो रहा है। इस हफ्ते, ट्रम्प ने खान को एक लैटर लिखकर पाकिस्तान से मदद मांगी है ताकि पड़ोसी अफगानिस्तान में 17 साल के युद्ध को खत्म करने के लिए तालिबान के साथ वार्ता शुरू की जा सके। लेफ्टिनेंट जनरल केनेथ मैकेंज़ी के नाम को अमेरिकी केंद्रीय कमान के कमांडर बनने के लिए नामांकित किया गया है जो देशों के बीच में सैन्य संबंध मजबूत बनाने का काम करेंगे। आजादी के बाद, पाकिस्तान ने अब तक भारत के साथ तीन बड़े युद्ध लड़े हैं और दोनों ही देश एक दूसरे पर विद्रोहियों को समर्थन देने का आरोप लगाते रहते हैं।  1947 में अंग्रेजों ने उपमहाद्वीप छोड़ने के बाद से भारत के साथ शांति के प्रस्ताव पर गंभीरता से वार्ता नहीं हुई है। भारत और अमेरिका दोनों ही देश पाकिस्तान को आतंकवादी समूहों के लिए सुरक्षित आश्रय प्रदान करने के रूप में देखते हैं, और अक्सर इस तथ्य को सामने लाते हैं कि लश्कर-ए-तैयबा का नेतृत्व , जिसने 2008 में भयानक मुंबई हमले किए थे, अभी भी पाकियों में स्वतंत्र रूप से रहते हैं। चूंकि, खान ईमानदार प्रतीत होते हैं, पाकिस्तान और पाकिस्तान के जनरलों को यह समझना होगा कि भारत पाकिस्तान के घेराबंदी तबतक नहीं करेगा जबतब लश्कर-ए-तैयबा  की ओर से कुछ गड़बड़ी नहीं की जाती है, वाशिंगटन में द ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूशन में विजिटिंग फैलो माधिया अफजल की किताब ‘पाकिस्तान अंडर सिज’ में किया गया है। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pakistan army seeks peace with india