अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

OMG : थमने लगी है समुद्र की चाल, आ सकती है Day After Tomorrow जैसी नौबत

थमने लगी है समुद्र की चाल, बिगड़ेगा मौसम का मिजाज
थमने लगी है समुद्र की चाल, बिगड़ेगा मौसम का मिजाज

जलवायु परिवर्तन के धरती और उसके जीव-जन्तुओं के लिए कितना खतरनाक है, यह बात किसी से नहीं छिपी है। एक अध्ययन में इसके खतरे का एक और रूप सामने आया है। विशेषज्ञों का कहना है कि 1600 साल में पहली बार समुद्र की चाल थम रही है, उसका जलस्तर बढ़ रहा है और इसके प्रभाव से दुनियाभर में मौसम का मिजाज बिगड़ सकता है।

मंडरा रहा हिमयुग का खतरा
2004 में एक हॉलीवुड फिल्म आई थी ‘द डे आफ्टर टुमॉरो’, इसमें दुनिया में प्रलय जैसी परिस्थितियों को दिखाया गया था। अभी प्रलय तो नहीं आ रही है, लेकिन धरती के तापमान नियंत्रण में अहम भूमिका निभाने वाले समुद्र की चाल या करंट धीमा पड़ रहा है। इसके कारण विश्व पर एक बार फिर हिम युग का खतरा मंडरा रहा है। हॉलीवुड फिल्म में दैवीय आपदा की जो परिस्थितियां दिखाई गई थीं, वो तो बनावटी थीं मगर उनका बीज हकीकत में बोया जा चुका है। यह अध्ययन नेचर पत्रिका में प्रकाशित हो चुका है। 

करंट में आ चुकी है 15 फीसदी की गिरावट
यह अध्ययन जर्मनी के पॉट्सडैम इंस्टीट्यूट फॉर क्लाइमेट इमपैक्ट रिसर्च के शोधकर्ताओं की टीम ने किया है। प्रमुख शोधकर्ता स्टीफन रैम्सटोर्फ का कहना है कि अटलांटिक महासागर का करंट धीमा पड़ रहा है। इस करंट की खास बात यह है कि, यह काफी सारा समुद्री जल उत्तर की तरफ लेकर जाता है। इसे अटलांटिक मेरिडियोनल ओवरटर्निंग सर्कुलेशन (एएमओसी) कहा जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि 20 वीं शताब्दी के मध्य से समुद्र का करंट धीमा होना शुरू हुआ और अभी तक इसमें 15 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।
 

उत्तरी ध्रुव ले जाता है गर्म पानी
उत्तरी ध्रुव ले जाता है गर्म पानी

रैम्सटोर्फ का कहना है कि यह एक तरह की कनवेयर बेल्ट है। हमें यह तो पता है कि करंट सिस्टम का एक ऐसा बिंदु होगा, जहां पर यह टूटता है। मगर, हम अभी यह नहीं बता सकते हैं कि हम उससे कितनी दूर या पास हैं। यह करंट गर्म पानी उत्तरी ध्रुव की तरफ ले जाता है, जो वहां ठंडा होता है और गहरे समुद्री करंट के जरिये वापस वितरित होता है। 

पिघल रहे हैं आर्कटिक और ग्रीनलैंड के हिमखंड 
विशेषज्ञों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन से कनवेयर बेल्ट में गड़बड़ हो रही थी। इसके कारण आर्कटिक और ग्रीनलैंड के हिमखंड पिघल रहे हैं। यह साफ पानी है, जो समुद्र के खारे पानी की तरह गाढ़ा नहीं है। बर्फ पिघलकर पानी समुद्र में मिल रहा है, जिससे करंट धीमा हो रहा है। इस चक्र के कारण समुद्र का जलस्तर बढ़ रहा है, जो मौसम का मिजाज बिगड़ रहा है। इससे भयंकर सर्दी या गर्मी दोनों हो सकते हैं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Oceans are slowing down Day After Tomorrow like situation could arise