ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशकनाडा में बिगड़ रहे हालात, खालिस्तानी हमले में मारे थे 329 लोग, अब बरसी में भी खलल का ऐलान

कनाडा में बिगड़ रहे हालात, खालिस्तानी हमले में मारे थे 329 लोग, अब बरसी में भी खलल का ऐलान

कनाडा में सक्रिय खालिस्तानियों ने अब कनिष्क आतंकी हमले की बरसी पर भी खलल डालने का ऐलान किया है। कनाडा में सक्रिय चरमपंथी तत्वों का कहना है कि वे इस दौरान खालिस्तान एकजुटता रैली निकालेंगे।

कनाडा में बिगड़ रहे हालात, खालिस्तानी हमले में मारे थे 329 लोग, अब बरसी में भी खलल का ऐलान
Surya Prakashहिन्दुस्तान टाइम्स,ओटावाFri, 21 Jun 2024 11:25 AM
ऐप पर पढ़ें

कनाडा में खालिस्तान का उभार तेज हो रहा है। भारतीय कौंसुलेट के बाहर हाल ही में खालिस्तानियों ने भारत के खिलाफ एक सभा आयोजित की थी। इसके अलावा ऑपरेशन ब्लू स्टार की 40वीं बरसी के मौके पर पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या का चित्रण किया गया था। इसके चलते कनाडा में रह रहे भारतीय चिंता में हैं और वह सरकार से इसे लेकर शिकायत भी करा रहे हैं। इस बीच खालिस्तानी तत्वों की एक और तैयारी ने माहौल बिगड़ने का डर बढ़ा दिया है। खालिस्तानियों का कहना है कि वे कनाडा के अलग-अलग शहरों में रैलियां निकालेंगे और वहां अपनी एकजुटता दिखाएंगे। 

कनाडा में एयर इंडिया फ्लाइट 182 'कनिष्क' पर 23 जून, 1985 को हमला हुआ था। इस हमले में 329 लोग मारे गए थे, जिसमें 86 बच्चे भी शामिल थे। कनाडा के इतिहास में यह सबसे बड़ा आतंकवादी हमला था, जिसकी हर साल बरसी मनाई जाती है। इस मौके पर भारतीय समुदाय के लोग रैलियां भी निकालते हैं। लेकिन इस साल खालिस्तानी तत्व चिंता बढ़ा रहे हैं। खालिस्तानी संगठन सिख्स फॉर जस्टिस ने ऐलान किया है कि वह टोरंटो, वैंकुवर, ओटावा और मॉन्ट्रियाल में 'खालिस्तान एकजुटता' रैलियां निकालेंगे। ये रैलियां उन्हीं स्थानों पर निकाली जाएंगी, जहां भारतीय समुदाय के लोग बरसी पर जुटने वाले हैं और पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने वाले हैं।

खालिस्तान के इस ऐलान से भारतीय समुदाय के लोगों में रोष है। इन लोगों में से दीपक खंडेलवाल का कहना है कि कनिष्क आतंकी हमले में मैंने अपनी दो बहनों को खोया था। तब मैं 17 साल का ही थी। इस हमले में मेरी बहनें चंद्रा और मंजू मारी गई थीं। उन्होंने कहा, 'हम देख रहे हैं कि हालात ऐसे ही हो रहे हैं, जैसे 1985 में थे। जब विमान पर बम से हमला हुआ था। ऐसा लगता है कि हम फिर से ऐसे किसी हमले का सामना कर सकते हैं, जिसमें बेगुनाह लोगों का कत्ल कर दिया जाए।' उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना लोगों का अधिकार है, लेकिन हिंसा का समर्थन करना और उसे महिमामंडित करना गंभीर चिंता का विषय है।

हरदीप निज्जर की बरसी पर कौंसुलेट के बाहर जुटे थे खालिस्तानी

बता दें कि खालिस्तानी हरदीप सिंह निज्जर की बरसी भी इसी सप्ताह थी। इस मौके पर खालिस्तानियों ने भारतीय कौंसुलेट्स के बाहर प्रदर्शन किए थे और अदालत लगाई थी। इसमें कई आपत्तिजनक बातें की गई थीं और पोस्टर लगाए गए थे। बता दें कि निज्जर की बीते साल कनाडा में हत्या हो गई थी। वह कनाडा के सरे में सिख्स फॉर जस्टिस के मुख्य संगठनकर्ता थे।