ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशराफा में अंदर तक घुसा इजरायल, 3 लाख और फिलिस्तीनी बेघर; एक और मुस्लिम देश विरोध में उतरा

राफा में अंदर तक घुसा इजरायल, 3 लाख और फिलिस्तीनी बेघर; एक और मुस्लिम देश विरोध में उतरा

इजरायल ने हमला खासा तेज कर दिया और अब तक राफा से करीब 3 लाख लोग पलायन कर चुके हैं। इजरायल का कहना है कि राफा ही हमास के आतंकियों की आखिरी शरणस्थली बन चुका है, जिसे वहां से भी खत्म करना है।

राफा में अंदर तक घुसा इजरायल, 3 लाख और फिलिस्तीनी बेघर; एक और मुस्लिम देश विरोध में उतरा
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,तेल अवीव राफाMon, 13 May 2024 11:22 AM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिका ने इजरायल को हथियारों की सप्लाई रोकने की धमकी दी है। इसके बाद भी इजरायल ने गाजा के राफा शहर पर हमला नहीं रोका है और काफी अंदर तक उसकी सेना घुस चुकी है। रविवार को तो इजरायल ने हमला खासा तेज कर दिया और अब तक राफा से करीब 3 लाख लोग पलायन कर चुके हैं। इजरायल का कहना है कि राफा ही हमास के आतंकियों की आखिरी शरणस्थली बन चुका है। ऐसे में हम यहां हमला करके उसे नेस्तनाबूद करके रहेंगे। इजरायल के आदेश के बाद करीब 3 लाख फिलिस्तीनियों ने राफा शहर छोड़ दिया है। माना जा रहा है कि अगले एक से दिन में कुछ खास प्रतिष्ठानों पर इजरायली सेना हमला बोल सकती है। 

उसका कहना है कि हमास के लड़ाकों ने कई संस्थानों को ठिकाना बनाया है। इजरायल ने खान यूनिस शहर पर भी इसी तरह से हमला किया था। इजरायल के इस ऐक्शन से मिस्र बुरी तरह खफा है। उसने अब साउथ अफ्रीका की ओर से इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में इजरायल के खिलाफ दायर केस में शामिल होने का फैसला लिया है। इस केस में इजरायल पर नरसंहार का आरोप लगाया गया है, जिसे उसने खारिज कर दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन का कहना है कि इतना भीषण हमला करना गलत है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि हम चाहते हैं कि गाजा में एक प्रशासनिक व्यवस्था रहे और वहां ऐसी अराजकता नहीं छोड़ी जा सकती। 

राफा में कत्लेआम की जिद पड़ रही भारी, अब अरब देश ने इजरायल को धमकाया

फिलिस्तीनियों का कहना है कि इजरायल ने रातोंरात जबालिया रिफ्यूजी कैंप में भी हमला किया है। इसके अलावा उत्तरी गाजा के भी कुछ इलाकों में अटैक हुए हैं। वहीं संयुक्त राष्ट्र संघ का कहना है कि गाजा में भुखमरी के हालात हैं। वहीं अमेरिकी फैसले को लेकर भी मतभेद की स्थिति है। एक तरफ बेंजामिन नेतन्याहू ने बाइडेन सरकार के फैसले पर ऐतराज जताया है तो वहीं ब्रिटेन भी असहमत है। डेविड कैमरून ने रविवार को कहा कि इससे तो हमास मजबूत हो जाएगा और यह स्थिति इजरायल की सुरक्षा के लिए ठीक नहीं है। गौरतलब है कि जो बाइडेन ने स्वीकार किया था कि इजरायल ने जिन बमों से निर्दोष फिलिस्तीनी नागरिकों पर हमले किए थे, वे अमेरिका ने ही उसे दिए थे। 

US-इजरायल के बीच क्यों टेंशन की वजह बना मार्क-80 बम? कितना खतरनाक