DA Image
28 जून, 2020|2:42|IST

अगली स्टोरी

लिपुलेख और कालापानी को लेकर भारत-नेपाल में विवाद

nepal

नेपाल की सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए नेपाल का नया नक्शा जारी करने को कहा है। इस नक्शे में भारत के कालापानी और लिपुलेख को नेपाल की सीमा का हिस्सा दिखाया गया है। नेपाल सरकार की तरफ से जल्द ही इस मैप को पब्लिश किया जाएगा। इस बारे में बालुवतार में प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास पर एक कैबिनेट मीटिंग हुई।

मिनिस्टर ऑफ लैंड मैनेजमेंट पदम अरयाल की तरफ से कैबिनेट मीटिंग के दौरान देश के नए राजनीतिक नक्शे के बारे में प्रस्ताव पेश किया गया। नेपाल के सांस्कृतिक, पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन मेंत्री योगेश भट्टाराय ने कहा कि सोमवार का कैबिनेट का यह फैसला सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा।

मिनिस्टर भट्टराय ने कहा एक तरफ जहां ये कहा कि आने वाले समय में सभी क्वीज कांटेस्ट में सोमवार के कैबिनेट के फैसले और इसकी तारीख के बारे में पूछा जाएगा तो वहीं दूसरी तरफ उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री केपी ओली का धन्यवाद भी किया।

ये भी पढ़ेंं: 80 KM लंबा धारचूला-लिपूलेख मार्ग खुला, कैलाश मानसरोवर यात्रा होगी आसान

नेपाल की कैबिनेट का ये फैसला भारत की ओर से लिपुलेख इलाके में सीमा सड़क के उद्धाटन के करीब 10 दिनों के बाद आया है।लिपुलेख से होकर ही तिब्बत चीन के मानसरोवर जाने का रास्ता है। इस सड़क के बनाए जाने के बाद नेपाल ने कड़े शब्दों में भारत के कदम का विरोध किया था।

ये भी पढ़ें: लिपुलेख तक सड़क निर्माण और कालापानी के मुद्दे पर नेपाल की आपत्ति

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nepali Cabinet endorses new Political Map of the country which shows Lipulekh Kalapani Limpiyadhura as its territories