DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई संयुक्त रूप से मापने की भारत की पेशकश नेपाल ने ठुकराई

Nepal rejects India offer to jointly re-measure Mt Everest after 2015 quake

नेपाल के सर्वेक्षण विभाग के शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि 2015 के भूकंप के बाद दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई संयुक्त रूप से फिर से मापने की भारत की पेशकश नेपाल ने खारिज कर दी है और वह खुद ही यह काम करेगा।

हिमालय पर्वतमाला की इस सर्वोच्च पर्वत चोटी की ऊंचाई 8,848 मीटर है। 

नेपाल के सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक गणेश भट्ट ने बताया कि नेपाल इस काम को पूरा करने के लिए जरूरी आंकड़े हासिल करने के सिलसिले में भारत और चीन से मदद मांगेगा। 

नेपाल के इनकार करने के पीछे कहीं चीन का हाथ तो नहीं?
वहीं, नयी दिल्ली में मौजूद सूत्रों ने संकेत दिया कि माऊंट एवरेस्ट को संयुक्त रूप से फिर से मापने के भारत के प्रस्ताव को नेपाल के इनकार करने के पीछे चीन का हाथ हो सकता है क्योंकि यह चोटी चीन - नेपाल सीमा पर है। 

भारत के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत आने वाले विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के एक बयान के मुताबिक 2015 में नेपाल में आए भीषण भूकंप के बाद इस सर्वोच्च पर्वत चोटी की ऊंचाई को लेकर वैज्ञानिक समुदाय ने कई संदेह जाहिर किए हैं। 

कवायद: नेपाल सरकार माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई फिर नापेगी

अप्रैल 2015 में 7.8 की तीव्रता से आए भूकंप ने नेपाल में तबाही मचाई थी जिसमें 8,000 से अधिक लोग मारे गए थे जबकि लाखों अन्य बेघर हो गए थे। 

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तहत आने वाली 250 साल पुरानी संस्था 'सर्वे ऑफ इंडिया ने माउंट एवरेस्ट को नेपाल के सर्वेक्षण विभाग के साथ 'भारत - नेपाल संयुक्त वैज्ञानिक अभ्यास के रूप में फिर से मापने का प्रस्ताव किया था। 

भारत के महा सर्वेक्षक मेजर जनरल गिरिश कुमार ने पीटीआई भाषा को बताया, ''उन्होंने हमारे प्रस्ताव का जवाब नहीं दिया। अब वे कह रहे हैं कि वे भारत या चीन, दोनों में से किसी को भी शामिल नहीं कर रहे हैं। वे खुद ही माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई मापेंगे।

कुमार ने कहा कि भारत के एक प्रतिनिधि काठमांडो में बुलाई गई एक बैठक में शरीक हुए थे, जहां चीन सहित विभिन्न देशों से सर्वेक्षक और वैज्ञानिक भी मौजूद थे। 

वहीं, भट्ट ने फोन पर बताया कि एवरेस्ट को मापने में हमारी मदद के लिए भारत से एक प्रस्ताव था लेकिन हम इसे खुद से कर रहे हैं। 

यह पूछे जाने पर कि क्या चीन ने भी एवरेस्ट की ऊंचाई मापने का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने इसका नकारात्मक जवाब दिया। 

उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि चीन ने 1975 और 2005 में एवरेस्टकी ऊंचाई मापी थी जबकि भारतीय सर्वेक्षकों ने 1956 में ऐसा ही एक कार्य किया था।  भारत के महा सर्वेक्षक ने भी ब्रिटिश काल में एवरेस्ट की ऊंचाई मापी थी। 

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की वेबसाइट पर कहा गया है, ''भारत के महा सर्वेक्षक सर जार्ज एवरेस्ट के नेतृत्व में भारत प्रथम देश था, जिसने 1855 में माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई घोषित की और इसे दुनिया की सबसे ऊंची चोटी बताया।  

भट्ट ने बताया कि परियोजना पर शुरूआती कार्य आरंभ हो चुका है और वे सर्वेक्षण के लिए प्राथमिक डेटा एकत्र कर रहे हैं। 

भट्ट ने बताया कि भारत से लेवलिंग डेटा जबकि चीन से ग्रेविटी (गुरूत्व) डेटा मुहैया करने का अनुरोध किया गया है। एवरेस्ट की ऊंचाई निर्धारित करने में डेटा की बहुत अहम भूमिका होगी। 

उन्होंने कहा कि हम माप के लिए चीनी क्षेत्र में नहीं जाएंगे। एवरेस्ट पर आंकड़े सौंपने का कार्य 2019 में होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nepal rejects India offer to jointly re-measure Mt Everest after 2015 quake