ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशक्लाइमेट रैली में फिलिस्तीन का समर्थन करने लगीं ग्रेटा थनबर्ग, गुस्से में शख्स ने माइक छीनकर नीचे फेंका

क्लाइमेट रैली में फिलिस्तीन का समर्थन करने लगीं ग्रेटा थनबर्ग, गुस्से में शख्स ने माइक छीनकर नीचे फेंका

थनबर्ग पर भड़कते हुए उसने कहा, 'मैं यहां जलवायु प्रदर्शन पर सुनने के लिए आया हूं, किसी राजनीतिक नजरिए के लिए नहीं।' इतना कहते ही उसने एक्टिविस्ट से माइक्रोफोन खींचा और उसे जमीन पर फेंक दिया।

क्लाइमेट रैली में फिलिस्तीन का समर्थन करने लगीं ग्रेटा थनबर्ग, गुस्से में शख्स ने माइक छीनकर नीचे फेंका
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,एम्स्टर्डमMon, 13 Nov 2023 11:17 PM
ऐप पर पढ़ें

स्वीडिश एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग से स्टेज पर माइक छिने जाने का मामला सामने आया है। वह एम्स्टर्डम में एक कार्यक्रम के दौरान बोल रही थीं तभी एक व्यक्ति उनके पास आया और उनसे माइक्रोफोन छीन लिया। इस शख्स ने उन पर जलवायु को लेकर आयोजित रैली में फिलिस्तीन के समर्थन में संदेश देने का आरोप लगाया। दरअसल, थनबर्ग ने फिलिस्तीनी और अफगान महिला को बोलने के लिए मंच पर बुलाया। यह सुनते ही वह व्यक्ति मंच पर कूद पड़ा और कार्यकर्ता को बोलने से रोक दिया। इसने आरोप लगाया कि थनबर्ग ने एनवायरमेंटल मार्च को राजनीतिक कार्यक्रम में बदलने की कोशिश कर रही हैं। 

इस शख्स ने 20 वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता थनबर्ग पर भड़कते हुए कहा, 'मैं यहां जलवायु प्रदर्शन पर सुनने के लिए आया हूं, किसी राजनीतिक नजरिए के लिए नहीं।' इतना कहते ही उसने एक्टिविस्ट से माइक्रोफोन खींच लिया और उसे जमीन पर फेंक दिया। इसके बाद वह मंच से नीचे चला गया। इसके बाद थनबर्ग भी चुप नहीं रहीं। उन्होंने कहा, 'क्लाइमेट जस्टिस मूवमेंट के रूप में हमें उन लोगों की आवाज सुननी होगी जो उत्पीड़ित हैं। ये वे लोग हैं जो स्वतंत्रता और न्याय के लिए लड़ रहे हैं। अगर हम लोग अंतरराष्ट्रीय एकजुटता नहीं दिखाएंगे तो यह जलवायु न्याय नहीं हो सकता।'

रैली में काफिया पहने नजर आईं ग्रेटा थनबर्ग
ग्रेट थनबर्ग इस दौरान पारंपरिक फिलिस्तीनी दुपट्टा पहने हुए नजर आईं जिसे काफिया के नाम से जाना जाता है। थनबर्ग ने माइक छिनने वाले व्यक्ति को शांत रहने की सलाह दी। उसके मंच से हटा दिए जाने के बाद वह रैली में भी शामिल हुईं, जहां यह नारा लगाया जा रहा था कि 'कब्जे वाली भूमि पर कोई जलवायु न्याय नहीं' नहीं। रिपोर्ट के मुताबिक, माइक छीनने की घटना से पहले मौके पर मौजूद भीड़ ने 'फिलिस्तीन आजाद होगा' के नारे लगाए। माना जा रहा है कि माइक फेंकने वाला शख्स इन चीजों को लेकर सहमत नहीं था। इस व्यक्ति की अभी तक पहचान नहीं हो पाई है मगर इतना पता चला है कि उसने वाटर नेचुरलिज्क नामक ग्रपु के नाम वाली जैकेट पहनी थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें