DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  आखिर ऐसा क्या हुआ कि इस अखबार को खरीदने के लिए उमड़ पड़ा लोगों को हुजूम? जानें पूरा मामला
विदेश

आखिर ऐसा क्या हुआ कि इस अखबार को खरीदने के लिए उमड़ पड़ा लोगों को हुजूम? जानें पूरा मामला

एपी,हांगकांगPublished By: Shankar Pandit
Thu, 24 Jun 2021 04:13 PM
आखिर ऐसा क्या हुआ कि इस अखबार को खरीदने के लिए उमड़ पड़ा लोगों को हुजूम? जानें पूरा मामला

हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक आखिरी अखबार 'एप्पल डेली' का अंतिम प्रिंट संस्करण खरीदने के लिए बृहस्पतिवार तड़के ही लोगों की कतारें लग गयी और आम तौर पर 80,000 प्रतियों का प्रकाशन करने वाले इस अखबार के अंतिम संस्करण की दस लाख प्रतियां देखते ही देखते बिक गईं। लोकतंत्र के समर्थन के लिए अपनी अलग पहचान रखने वाले इस अखबार के अंतिम संस्करण में एक तस्वीर प्रकाशित की गई जिसमें एप्पल डेली के कर्मचारी इमारत के आसपास बारिश के बावजूद एकत्रित हुए समर्थकों का कार्यालय से हाथ हिलाकर अभिवादन कर रहे हैं और इसके साथ ही शीर्षक दिया गया, 'हांगकांग वासियों ने बारिश में दुखद विदायी दी, हम एप्पल डेली का समर्थन करते हैं।'

शहर में ज्यादातर जगहों पर सुबह साढ़े आठ बजे तक ही एप्पल डेली के अंतिम संस्करण की 10 लाख प्रतियां बिक गयी। अखबार ने, पुलिस के उसकी 23 लाख डॉलर की संपत्ति फ्रीज करने, उसके कार्यालय की तलाशी लेने और पांच शीर्ष संपादकों और कार्यकारियों को पिछले हफ्ते गिरफ्तार करने के बाद कहा था कि वह अपना संचालन बंद करेगा। पुलिस ने अखबार पर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेश से मिलीभगत का आरोप लगाते हुए यह कार्रवाई की थी।

एप्पल डेली को लोकतंत्र समर्थक रुख के लिए जाना जाता है और वह शहर पर नियंत्रण बढ़ाने के लिए चीन तथा हांगकांग सरकारों की अक्सर आलोचना तथा निंदा करता रहता है। 2019 में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद अर्धस्वायत्त चीनी शहर में असंतुष्टों पर कार्रवाई के सिलसिले में यह ताजा कदम है। अखबार ऐसे समय में बंद हो रहा है जब प्राधिकारियों ने 2019 में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद असंतुष्टों पर कार्रवाई तेज कर दी है। चीन द्वारा करीब एक साल पहले लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत पहले मुकदमे की सुनवाई शुरू होने के साथ ही यह घोषणा की गई है।

एप्पल डेली के ग्राफिक डिजाइनर डिकसन ने कहा, ''यह हमारा आखिरी दिन और आखिरी संस्करण है, क्या यह सच्चाई दिखाता है कि हांगकांग ने अपनी प्रेस की आजादी और अभिव्यक्ति की आजादी को खोना शुरू कर दिया है ? इसे इस तरीके से क्यों समाप्त होना पड़ा? क्यों हांगकांग में अब कोई एप्पल डेली अखबार नहीं होगा? बुधवार रात को न्यूजरूम में एकत्रित कर्मियों से सहायक प्रकाशक चान पुई-मैन ने कहा, ''आप सभी ने बहुत शानदार काम किया। एप्पल डेली ने अंतिम संस्करण के लिए 10 लाख प्रतियां प्रकाशित कीं जबकि आम तौर पर 80,000 प्रतियां छपती हैं। लोकतंत्र समर्थक मीडिया संगठन ऑनलाइन मौजूद हैं लेकिन यह शहर में अपनी तरह का इकलौता प्रिंट अखबार था।

कर्मचारियों के अंतिम संस्करण पर काम करने के बीच, बुधवार रात को 100 से अधिक लोग अपना समर्थन दिखाने के लिए बारिश में एप्पल डेली कार्यालय की इमारत के बाहर खड़े रहे और उन्होंने तस्वीरें खींची तथा कर्मचारियों को प्रोत्साहित करते हुए नारे लगाए। बृहस्पतिवार को तड़के शहर के मोंग कोक में निवासियों ने अखबारों के स्टैण्ड पर पहुंचने से पहले ही कतार लगानी शुरू कर दी। अंतिम संस्करण में एक तस्वीर प्रकाशित की गई जिसमें एप्पल डेली के कर्मचारी इमारत के आसपास एकत्रित हुए समर्थकों का कार्यालय से हाथ हिलाकर अभिवादन कर रहे हैं और इसके साथ ही शीर्षक दिया गया, 'हांगकांग वासियों ने बारिश में दुखद विदायी दी, हम एप्पल डेली का समर्थन करते हैं।'

बृहस्पतिवार तक एप्पल डेली की वेबसाइट भी खुल नहीं रही थी और उसपर एक नोटिस था जिसमें लिखा कि, ''हमें आपको यह बताते हुए दुख हो रहा है कि एप्पल डेली और नेक्स्ट मैगजीन की वेब और ऐप पर उपलब्ध सामग्री 23 जून 2021 को देर रात 11 बजकर 59 मिनट से उपलब्ध नहीं रहेगी। हम ईमानदारी से मिले सहयोग के लिए अपने सभी पाठकों, उपयोगकर्ताओं, विज्ञापनदाताओं और हांगकांग वासियों का शुक्रिया अदा करते हैं। उसके समाचार ऐप पर भी ऐसा ही नोटिस पोस्ट किया गया। ब्रिटेन के विदेश सचिव डोमिनिक राब ने टि्वटर पर कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का इस्तेमाल आजादी पर लगाम लगाने और असंतुष्टों को सजा देने के लिए किया जा रहा है। जर्मनी के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया अदेबार ने अखबार के बंद होने को ''हांगकांग में प्रेस की आजादी को झटका बताया।

संबंधित खबरें