ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशकिचन-टॉयलेट और एसी रूम, हमास ने कैसे बनाया अल-शिफा के नीचे सुरंगों का जाल? इजरायल ने खोला राज

किचन-टॉयलेट और एसी रूम, हमास ने कैसे बनाया अल-शिफा के नीचे सुरंगों का जाल? इजरायल ने खोला राज

एक वीडियो जारी कर इजरायली सेना दावा किया कि सुरंग के अंत में कई क्वाटर हैं। जहां एयर कंडीशनर कमरे, रसोईघर, शौचालय और सफेद टाइल से बने कमरे में मेटल की चारपाई भी रखी गई है।

किचन-टॉयलेट और एसी रूम, हमास ने कैसे बनाया अल-शिफा के नीचे सुरंगों का जाल? इजरायल ने खोला राज
Himanshu Tiwariएपी,गाजाThu, 23 Nov 2023 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

एयर कंडीशनर, रसोईघर, शौचालय और सफेद टाइल से बने कमरे की एक वीडियो जारी कर इजरायली सेना ने दावा किया है कि हमास ने अल-शिफा में सुरंगों का जाल बना रखा था। इजरायली सेना ने गाजा के सबसे बड़े अस्पताल के नीचे हमास का सैन्य केंद्र होने के अपने दावे को साबित करने के लिए विदेशी पत्रकारों के एक समूह को एक भूमिगत ठिकाने की तरह प्रतीत होने वाले बंकर दिखाए। दर्जनों सैनिक इन पत्रकारों को पत्थर की एक संकीर्ण सुरंग के जरिए शिफा अस्पताल के नीचे बने भूमिगत बंकरों में ले गए। सेना के अनुसार इस सुरंग की लंबाई 150 मीटर है।
     
सुरंग के अंत में स्थित कई क्वार्टर में एक एयर कंडीशनर, रसोईघर, शौचालय और सफेद टाइल से बने कमरे में धातु की चारपाई हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि इनका इस्तेमाल अभी नहीं किया जा रहा। इजरायल ने सात अक्टूबर को हमास के खिलाफ युद्ध की घोषणा की थी। उसने हमास पर गाजा के अस्पतालों का सैन्य कवर के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। उसने दावा किया है कि शिफा अस्पताल की आड़ में हमास ने कमान केंद्र बना रखे हैं और अस्पताल के नीचे कई बंकर हैं। हालांकि, हमास और अस्पताल के प्रशासन ने इजरायल के आरोपों को खारिज किया है। 

हमास ने बना रखा का केंद्र?

इजरायली सेना के मुख्य प्रवक्ता रियर एडमिरल डैनियल हैगारी ने कहा, ''शिफा गाजा का सबसे बड़ा अस्पताल है और हमास का सबसे बड़ा आतंकवादी केंद्र है।'' उन्होंने पास से आ रही बमबारी की आवाजों के बीच कहा, ''हमास बटालियन के कमांडर यहां से कमान एवं नियंत्रण का काम कर रहे हैं और वे यहां से रॉकेट दाग रहे हैं।'' 'एसोसिएटेड प्रेस' (एपी) हैगारी के दावों की स्वतंत्र तरीके से पुष्टि नहीं करता। एपी को इस शर्त पर गाजा तक पहुंच की अनुमति दी गई थी कि उसके पत्रकार चार घंटे के दौरे में इजरायली सैन्य काफिले के साथ रहेंगे और खबर के प्रकाशन से पहले सभी सामग्री सैन्य सेंसर को सौंपेंगे।

विदेशी पत्रकारों के गाजा तक पहुंचने का इसके अलावा कोई अन्य रास्ता नहीं है। हमास ने इजरायल पर सात अक्टूबर को अप्रत्याशित हमला किया था, जिसमें कम से कम 1,200 लोगों की मौत हो गई थी और 240 लोगों को बंधक बना लिया गया था। इसके बाद इजरायल ने जवाबी कार्रवाई की। हमास शासित गाजा प्रशासन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि इजरायल के हमले में 11,000 से अधिक फलस्तीनी मारे गए हैं। इजरायली सैनिकों ने बुधवार को विदेशी पत्रकारों को वे हथियार दिखाए, जो उनके अनुसार शिफा से बरामद हुए हैं। इन हथियारों में एके-47 असॉल्स राइफल, 20 ग्रेनेड और कई ड्रोन शामिल है। हैगारी ने कहा कि ये हथियार एक छोटा नमूना मात्र हैं।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें