ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेश कनाडा में खालिस्तानियों को नहीं रास आई दिवाली, त्योहार मना रहे हिंदुओं पर पत्थरबाजी

कनाडा में खालिस्तानियों को नहीं रास आई दिवाली, त्योहार मना रहे हिंदुओं पर पत्थरबाजी

कनाडा में खालिस्तान समर्थकों को हिंदुओं का दिवाली मनाना भी रास नहीं आया और वे त्योहार में खलल डालने लगे। सूत्रों का कहना है कि खालिस्तान समर्थकों ने पत्थरबाजी भी की।

 कनाडा में खालिस्तानियों को नहीं रास आई दिवाली, त्योहार मना रहे हिंदुओं पर पत्थरबाजी
Ankit Ojhaलाइव हिंदुस्तान,ओटावाTue, 14 Nov 2023 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

कनाडा में खालिस्तानी संगठनों ने एक बार फिर उपद्रव करने की हिमाकत की है। कनाडा में हिंदुओं और अन्य भारतीयों का दिवाली मनाना खालिस्तानियों को रास नहीं आया और वे गाली-गलौज, पत्थरबाजी पर उतर आए। जानकारी के मुताबिक कनाडा के क्यूबेक प्रांत के ब्रॉम्पटन बोरो में दिवाली उत्सव के दौरान खालिस्तान समर्थकों ने हिंदुओं पर हमला कर किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस तरह के उपद्रव के दौरान कनाडा की पुलिस ने भी उनपर ऐक्शन नहीं लिया। उपद्रवी खालिस्तान का पीला झंडा लेकर उत्सव स्थल पर पहुंचे थे। 

सूत्रों का कहना है कि कनाडा की पुलिस ने उस उपद्रव को अंतर सामुदायिक लड़ाई बताया और कहा कि दो धर्मों के लोगों में झड़प हुई है। भारत सरकार के एक अधिकारी का कहना है कि खालिस्तानियों की हरकतों को देखने के बाद भी जस्टिन ट्रूडो की सरकार मूक दर्शक बनी हुई है। वह अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर खालिस्तानी संगठनों को बढ़ावा देती है। हिंदुओं के त्योहारों के दौरान हमला करना और भी चौकाने वाला है। उन्होंने कहा कि राजनयिक रास्ते से इस मुद्दे को उठाया जाएगा। 

बता दें कि यूएन के मानवाधिकार परिषद की बैठक में भी भाजपा ने कनाडा को जमकर लताड़ लगाई और आईना दिखाया। भारत ने कहा कि कनाडा में आतंकियों का समर्थन किया जा रहा है और उनके हौसले बढ़ रहे हैं। वहीं विशेष धर्म के पूजा स्थलों पर हमला हो रहा है जिसपर सरकार कोई ऐक्शन नहीं ले रही है।बता दें कि निज्जर की हत्या के बाद भारत और कनाडा के बीच संबंध तनावपूर्ण बने हुए हैं। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने संसद में भारत पर आरोप लगा दिया था। इसके बाद भारत ने भी उनके बयान को बेहूदा और बेतुका करार दिया और आरोपों को खारिज कर दिया। 

बता दें कि कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी गुरुवार को दिवाली मनाई थी और नया डाक टिकट भी जारी किया था। बीते पांच सालों से यह परंपरा चल रही है। 2017 में पहली बार कनाडा ने दिवाली पर स्टैंप जारी किया था। बता दें कि कनाडा में रहने वाले बौद्ध, सिख और जैन समदुया के लोग दिवाली मनाते हैं। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें