ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशअमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ बगावत? इजरायल-हमास जंग पर बाइडेन स्टाफ की चिट्ठी; कर दी बड़ी मांग

अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ बगावत? इजरायल-हमास जंग पर बाइडेन स्टाफ की चिट्ठी; कर दी बड़ी मांग

इजरायल और हमास के बीच जंग को लेकर अमेरिका में भारी बगावत की खबर आ रही है। जानकारी के मुताबिक जो बाइडेन प्रशासन 40 विभागों और एजेंसियों के 400 कर्मचारियों ने राष्ट्रपति को एक चिट्ठी लिखी है।

अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ बगावत? इजरायल-हमास जंग पर बाइडेन स्टाफ की चिट्ठी; कर दी बड़ी मांग
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,वॉशिंगटनTue, 14 Nov 2023 09:26 PM
ऐप पर पढ़ें

इजरायल और हमास के बीच जंग को लेकर अमेरिका में भारी बगावत की खबर आ रही है। जानकारी के मुताबिक जो बाइडेन प्रशासन 40 विभागों और एजेंसियों के 400 कर्मचारियों ने एक चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में इजरायल और हमास युद्ध को हैंडल करने के तरीके पर सवाल उठाया गया है। साथ ही सीजफायर की मांग की गई है। इस पत्र के बारे में सबसे पहले न्यूयॉर्क टाइम्स ने रिपोर्ट दी थी। पत्र लिखने वालों में यूएस स्टेट डिपार्टमेंट, व्हाइट हाउस, नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल और जस्टिस डिपार्टमेंट के कर्मचारी शामिल हैं।

चिट्ठी में लिखी यह बात
इन अमेरिकी कर्मचारियों ने लिखा है कि हम राष्ट्रपति जो बाइडेन से तत्काल सीज फायर की मांग करते हैं। साथ ही इजरायल के बंधकों और मनमाने ढंग से हिरासत में लिए गए फिलिस्तीनियों की तत्काल रिहाई सुनिश्चित करके वर्तमान संघर्ष को कम करने का आह्वान किया जाए। इतना ही नहीं, पानी, ईंधन, बिजली और अन्य बुनियादी सेवाओं की बहाली हो और गाजा पट्टी को पर्याप्त मानवीय सहायता मुहैया कराई जाए। जो बाइडेन और विश्व के अन्य नेताओं ने गाजा में संघर्ष विराम की मांग से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि इससे केवल हमास आतंकियों को फायदा पहुंचेगा। जो बाइडन के प्रशासन ने इसके बजाय लड़ाई में मानवीय विराम के लिए जोर दिया है, जिस पर इजरायल सहमत हो गया है।

प्रतिबंधों की घोषणा के ठीक बाद
यह तब हुआ है जब अमेरिका ने पिछले महीने इजरायल पर हमले के बाद से हमास पर प्रतिबंधों के तीसरे दौर की घोषणा की है। अमेरिकी वित्त विभाग के एक बयान में कहा गया है कि नए प्रतिबंध समूह के ईरानी समर्थकों, हमास के प्रमुख अधिकारियों और उन सिस्टम्स को टारगेट करते हैं जिनके द्वारा ईरान हमास और फिलिस्तीनी इस्लामिक जिहाद को समर्थन देता है। नए प्रतिबंधों पर, अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि ईरान का समर्थन, मुख्य रूप से अपने इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स के माध्यम से, हमास और पीआईजे की आतंकवादी गतिविधियों को सक्षम बनाता है, जिसमें धन के हस्तांतरण और हथियारों और ऑपरेशनल ट्रेनिंग दोनों के प्रावधान शामिल हैं।

वित्त विभाग ने कहा कि हमास और उसके सहयोगियों के खिलाफ तीन दौर की पाबंदियों का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय वित्त प्रणाली का हमास के चरमपंथियों द्वारा दुरुपयोग होने से रोकना है। वित्त मंत्री जेनेट येलेन ने ईमेल से भेजे गए एक बयान में कहा कि हम अपने साझेदारों के साथ हमास के वित्तीय ढांचे को कमजोर करने, उन्हें बाहरी वित्तपोषण से अलग-थलग करने और उनके वित्तपोषण के नये चैनलों पर रोक लगाने के लिए निर्णायक तरीके से काम कर रहे हैं।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें