DA Image
8 अगस्त, 2020|8:49|IST

अगली स्टोरी

दक्षिण चीन सागर में अपना असर बढ़ाने के लिए चीन कर रहा है कोरोना वायरस का इस्तेमाल: जापान

shinzo abe

जापान की सरकार ने कहा है कि चीन क्षेत्रीय सागरों में अपना दावा करने के ज्यादा से ज्यादा प्रयास करने के साथ ही अपना प्रभाव बढ़ाने और सामरिक श्रेष्ठता को स्थापित करने के लिए कोरोना वायरस वैश्विक महामारी का प्रयोग कर रहा है जो जापान और क्षेत्र के लिए अधिक खतरा पैदा कर रहे हैं। सरकार की रक्षा प्राथमिकताओं को दर्शाने वाली रिपोर्ट को प्रधानमंत्री शिंजो आबे की कैबिनेट ने मंगलवार (14 जुलाई) को स्वीकार किया। इससे एक दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने एक बयान जारी कर दक्षिण चीन सागर में बीजिंग के लगभग सभी अहम समुद्री दावों को खारिज कर दिया था।

आबे सरकार का 'डिफेंस व्हाइट पेपर 2020' इस बात का विशेष उल्लेख करता है कि चीन एवं उत्तर कोरिया की तरफ से किन खतरों की आशंका हो सकती है। वहीं जापान अपनी रक्षा क्षमताओं को भी बढ़ाने का प्रयास कर रहा है। आबे के शासन में, जापान ने धीरे-धीरे अपना रक्षा बजट एवं क्षमताएं बढ़ाई हैं और महंगे अमेरिकी अस्त्र-शस्त्र खरीदे हैं।

ताइवान को अमेरिका से मिलेगा एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम, बौखलाए चीन ने लॉकहीड मार्टिन पर लगाया बैन

रक्षा मंत्री तारो कानो ने तकनीकी कारणों से हाल ही में अमेरिका की भूमि आधारित मिसाइल रोधक प्रणाली की तैनाती रोक दी थी और आबे ने फौरन घोषणा की कि वह जापान के रक्षा दिशा-निर्देशों में संशोधन की मंशा रखते हैं। यह जापान को अमेरिका के साथ अपने सुरक्षा गठबंधन के तहत सिर्फ अपनी सुरक्षा की पारंपरिक भूमिका के दायरे से आगे बढ़ने की गु्ंजाइश दे सकता है। इसमें पूर्वानुमान के आधार पर हमला करने की क्षमता रखने की संभावना पर चर्चा करना भी शामिल है। व्हाइट पेपर में चीन पर कोरोना वायरस के प्रसार पर जानबूझ कर भ्रामक सूचना देने समेत अन्य दुष्प्रचार का आरोप लगाया गया है। रिपोर्ट में कहा गया, “हमें उनके हर कदम को राष्ट्रीय सुरक्षा को प्रभावित करने वाली गंभीर चिंताओं के रूप में देखना होगा।"

अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर पर चीन के दावों को किया खारिज
दूसरी ओर, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने सोमवार (13 जुलाई) को एक बड़ा नीतिगत फैसला करते हुए दक्षिण चीन सागर में चीन के क्षेत्रीय दावे को स्पष्ट रूप से खारिज करते हुए कहा कि उसके पास क्षेत्र में अपनी इच्छा मनमाने तरीके से लागू करने का कोई कानूनी आधार नहीं है। अमेरिका ने कहा कि चीन के ''दुनिया को हड़पने के नजरिए की 21वीं सदी में कोई जगह नहीं है।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने नीति संबंधी बड़ी घोषणा करते हुए कहा, ''दुनिया बीजिंग को इस बात की अनुमति नहीं देगी कि वह दक्षिण चीन सागर को अपना समुद्री साम्राज्य समझे। अमेरिका अपतटीय संसाधनों पर हमारे दक्षिणपूर्वी एशियाई सहयोगियों और साझीदारों के सम्प्रभु अधिकारों की रक्षा करने के लिए उनके साथ खड़ा है। उनके ये अधिकार अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत उनके अधिकारों एवं दायित्वों के अनुरूप हैं।"

अमेरिका ने कहा कि वह समुद्रों की सुरक्षा और सम्प्रभुता के सम्मान की रक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ खड़ा है और दक्षिण चीन सागर एवं वृहद क्षेत्र में ताकतवर की हर चीज जायज होने की बात खारिज करता है। पोम्पिओ ने कहा कि चीन समुद्री दावों को कानूनी तौर पर लागू नहीं कर सकता। उन्होंने कहा, ''हम स्पष्ट करते हैं: अधिकतर दक्षिण चीन सागर में अपतटीय संसाधनों पर बीजिंग का दावा पूरी तरह गैर कानूनी है।" पोम्पिओ ने कहा कि चीन के दुनिया पर कब्जा करने के नजरिए का 21वीं सदी में कोई स्थान नहीं है। ट्रंप प्रशासन की इस घोषणा का कई अमेरिकी सांसदों ने स्वागत किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Japan says coronavirus adds to security threat by China