ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशशिंजो आबे की मौत के लिए पुलिस जिम्मेदार... जापानी पीएम बोले- नहीं थी पर्याप्त सुरक्षा

शिंजो आबे की मौत के लिए पुलिस जिम्मेदार... जापानी पीएम बोले- नहीं थी पर्याप्त सुरक्षा

जापान के लोगों ने मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे को अंतिम विदाई दी, उनका एक मंदिर में परिवार के सदस्यों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार कर दिया गया। जहां, बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

शिंजो आबे की मौत के लिए पुलिस जिम्मेदार... जापानी पीएम बोले- नहीं थी पर्याप्त सुरक्षा
Ashutosh Rayएपी,टोक्योThu, 14 Jul 2022 06:29 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने पूर्व पीएम शिंजो आबे की मौत के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया है। किशिदा ने गुरुवार को कहा कि शिंजो आबे के लिए पर्याप्त पुलिस सुरक्षा नहीं थी। जापान के सबसे प्रभावशाली नेताओं में शुमार आबे की शुक्रवार को एक चुनाव सभा के दौरान भाषण देते समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गोलीबारी की तस्वीरों और वीडियो से पता चलता है कि बंदूकधारी आबे के करीब आने में सक्षम था। 

पुलिस ने घटनास्थल पर ही हमलावर को पकड़ लिया था। वह जापान की नौसेना का पूर्व सदस्य है। पुलिस और मीडिया की खबरों में कहा गया है कि उसने जांचकर्ताओं को बताया कि आबे और एक धार्मिक समूह के बीच संबंधों की अफवाह के कारण उसके मन में नफरत पैदा हो गई थी और यही कारण था कि उसने पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या कर दी थी।

यह भी पढ़ें- शिंजो आबे को नहीं, किसी और को मारना चाहता था यामागामी... लेकिन इस वजह से बदल गया प्लान

राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी कर रही जांच

किशिदा ने कहा कि नेशनल पब्लिक सेफ्टी कमीशन और राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी के अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि गलती कहा हुई है और आगे के लिए वे क्या उपाय करेंगे। किशिदा ने कहा कि मैं उनसे (राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी) आग्रह करता हूं कि जो ठीक करने की जरूरत है उसे ठीक करें। 

पूर्व नौसैनिक है हमलावर

पकड़ा गया हमलावर तेत्सुया यामागामी ने जापान की नौसेना में कुछ समय के लिए अपनी सेवा दी है। वह कथित तौर पर अपनी मां की ओर से यूनिफिकेशन चर्च को बड़ा दान दिए जाने से परेशान था जिसने परिवार को दिवालिया कर दिया। हमलवार ने जिस बंदूक का इस्तेमाल किया था वो हैंडमेड था। जापान में बूंदक के लिए काफी कड़े कानून हैं ऐसे में यह घटना एक बड़ी चूक भी हो सकती है।

epaper