DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  फिर दुनिया के सामने आए जैक मा, चीन में ही आलीशान रिसॉर्ट में गोल्फ खेलते दिखे

विदेशफिर दुनिया के सामने आए जैक मा, चीन में ही आलीशान रिसॉर्ट में गोल्फ खेलते दिखे

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Shankar Pandit
Thu, 11 Feb 2021 02:12 PM
फिर दुनिया के सामने आए जैक मा, चीन में ही आलीशान रिसॉर्ट में गोल्फ खेलते दिखे

चीन के सबसे अमीर कारोबारियों में शुमार अलीबाबा ग्रुप के मालिक जैक मा कई अटकलों पर विराम लगाते हुए एक बार फिर से दुनिया के सामने नजर आए हैं। अलीबाबा समूह पर चीनी शिकंजे के बाद से ही जैक मा लापता थे, कोई उनके सिंगापुर जाने की अटकलें लगा रहा था तो कोई उनके हाउस अरेस्ट की बातें कर रहा था। कुछ ने तो यहां तक अटकलें लगा दीं कि चीन ने उन्हें हाई सिक्योरिटी वाले जेल में कैद कर रखा है। मगर इन सभी अटकलों पर अब विराम लग गया है। क्योंकि एक महीने के भीतर दूसरी बार जैक मा दुनिया के सामने आए हैं। इस बार वह चीन में ही गोल्फ खेलते नजर आए हैं। 

नाम न जाहिर होने देने की शर्त पर इस मामले से जानकार लोगों के हवाले से ब्लूमबर्ग ने खबर दी है कि एंट ग्रुप एंड कंपनी और अलीबाबा ग्रुप के सह-संस्थापक जैक मा इस बार चीन के हैनान प्रांत में स्थित 'द सन वैली गोल्फ रिसॉर्ट' में गोल्फ खेलते देखे गए हैं। हैनान आइलैंड के दक्षिण में स्थित इस रिसॉर्ट को अपनी खूबसूरती और शानदार नजारों के लिए जाना जाता है। इससे पहले 20 जनवरी को एक वीडियो लिंक के जरिए ग्रामीण शिक्षकों के लिए एक सामाजिक कल्याण कार्यक्रम के दौरान वह पहली बार वर्चुअली दिखाई दिए थे। चीनी नियामक द्वारा अलीबाबा और एंट समूह पर शिकंजा कसने की कार्रवाई के बाद पहली बार जैक मा सार्वजनिक तौर पर सामने प्रकट हुए हैं। 

सन वैली गोल्फ रिसॉर्ट में एक ऑब्जर्वर ने बताया कि जैक मा एक नौसिखिए की तरह खेलते नजर आए। जैक मा का गोल्फ खेलना इस बात के सबूत हैं कि वह चीन की जेल में कैद नहीं हैं। हालांकि, अलीबाबा, एंट समूह और सन वैली गोल्फ रिसॉर्ट, सबने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। बता दें कि 20 जनवरी को जब शिक्षकों के लिए हुए वार्षिक कार्यक्रम में वीडियो के माध्यम से उन्होंने देशभर (चीन) के 100 ग्रामीण शिक्षकों के साथ मुलाकात की थी तो उस वक्त उन्होंने कहा था जब कोरोना महामारी खत्म हो जाएगी तब हम फिर मिलेंगे। 

ऐसे कसना शुरू हुआ था चीन का शिकंजा
दरअसल, शंघाई और हांगकांग में एंट की योजनाबद्ध दोहरी सूची से ठीक पहले चीनी वित्तीय नियामकों द्वारा 2 नवंबर को एंट मैनेजमेंट को समन जारी किया गया था। पिछले साल नवंबर में चीनी अधिकारियों ने जैक को बड़ा झटका देते हुए उनके एंट ग्रुप के 37 अरब डॉलर के आईपीओ को निलंबित कर दिया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस एक्शन के बाद जैक मा से कहा गया कि अलीबाबा ग्रुप के खिलाफ चल रही जांच पूरी होने तक चीन से बाहर न जाएं। इसके बाद से ही जैक मा सार्वजनिक दुनिया से गायब थे।

कौन हैं जैक मा
चीन की बड़ी आईटी कंपनियों में शुमार अलीबाबा के संस्थापक हैं। अलीबाबा के संस्थापक जैक मा चीन के मशहूर कारोबारी और अपने बोलने के लिए प्रसिद्ध हैं। वह कभी एक स्कूल में पढ़ाया करते थे और अब वह अरबपति कारोबारी हैं। अलीबाबा विश्व की बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों में से एक है, जिसके करोड़ों की संख्या में यूजर्स हैं। अलीबाबा का टर्नओवर भी अरबों में है। इसकी तीन मेन वेबसाइट टाउबाउ (Taobao), टीमॉल (Tmall) और अलीबाबा डॉट कॉम (Alibaba.com) है। 

क्या है पूरा मामला
चीन की सरकार अलीबाबा ग्रुप पर मोनोपोली यानी एकाधिकार के गलत इस्तेमाल को लेकर तहकीकात कर रही है। अलीबाबा ने कहा था कि उन्हें एसएएमआर (SAMR) के जरिए एंट ग्रुप (Ant Group) को भी नोटिस भी भेजा गया है। यह जैक-मा की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा डॉट कॉम और फिनटेक एंपायर के लिए बहुत बड़ा झटका मना गया। 

अलीबाबा और एन्ट ग्रुप पर कार्रवाई हुई शुरू
चीन ने जैक मा की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा और उसकी वित्तीय कारोबार की शाखा एन्ट ग्रुप पर कार्रवाई शुरू की है। इस कार्रवाई को लेकर दुनिया भर में कयास लगाए जा रहे हैं। वहीं, चीन के मार्केट रेगुलेटर का कहना है कि उसने अलीबाबा के खिलाफ बाजार पर एकाधिकार कायम करने संबंधी कोशिशों को लेकर यह कार्रवाई शुरू की है। चीन सरकार की कार्रवाई से कंपनियों में ऐसा खौफ समाया है कि महज दो ही दिन में चीन की बड़ी कंपनियों को करीब 15 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हो गया है। कुछ समय पहले जानकारों का मानना है कि यह बदले में की गई कार्रवाई ज्यादा लगती है।

संबंधित खबरें