ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेश'इमैनुएल मैक्रों से गुस्सा हैं जॉर्जिया मेलोनी?', इतालवी पीएम ने ऐसे देखा कि वायरल हुआ वीडियो

'इमैनुएल मैक्रों से गुस्सा हैं जॉर्जिया मेलोनी?', इतालवी पीएम ने ऐसे देखा कि वायरल हुआ वीडियो

जी-7 देशों के नेताओं ने प्रवासन पर भी ध्यान केंद्रित किया। साथ ही, मानव तस्करी से निपटने और उन देशों में निवेश बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की, जहां से प्रवासी अक्सर यात्रा शुरू करते हैं।

'इमैनुएल मैक्रों से गुस्सा हैं जॉर्जिया मेलोनी?', इतालवी पीएम ने ऐसे देखा कि वायरल हुआ वीडियो
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,रोमSat, 15 Jun 2024 05:12 PM
ऐप पर पढ़ें

जी-7 सम्मेलन के दौरान इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के बीच मतभेद नजर आए। खासतौर से गर्भपात के मुद्दे पर दोनों नेताओं की राय अलग रही। अब सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो क्लिप्स वायरल हो रहे हैं। इनमें मेलोनी जिस तरह से मैक्रों को देख रही हैं, उसकी खूब चर्चा हो रही है। इसे देखकर मालूम पड़ता है कि दोनों के बीच टेंशन बरकरार है। मैक्रों को देखकर मेलोनी जिस अंदाज में अपनी आंखें घुमाती हैं और जैसे उनसे हाथ मिलाती हैं, उसे इतना वेलकमिंग नहीं माना जा रहा है। इंटरनेट यूजर्स इस वीडियो को खूब शेयर कर रहे हैं और मेलोनी के गुस्से पर टिप्पणियां की जा रही हैं। 

दरअसल, जी-7 नेताओं के बीच कुछ मतभेद दिखाई दिए। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने शिखर सम्मेलन के अंतिम घोषणापत्र के मसौदे में गर्भपात का उल्लेख न होने पर खेद व्यक्त किया। पिछले साल जापान में आयोजित शिखर सम्मेलन के बाद जारी वक्तव्य में महिलाओं और लड़कियों को कानूनी गर्भपात की सुविधा उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता व्यक्त की गई थी। साथ ही, लैंगिक समानता और एलजीबीटीक्यू+ समुदाय के सदस्यों के अधिकारों की रक्षा करने का वचन दिया गया था। यूरोपीय संघ के अधिकारी ने पुष्टि की कि इस वर्ष के अंतिम घोषणापत्र में गर्भपात शब्द नहीं है, हालांकि यौन और प्रजनन स्वास्थ्य अधिकारों को बढ़ावा देने का जिक्र है। उन्होंने कहा कि इन बातों पर सहमति बनाना संभव नहीं है।

जी-7 सम्मेलन में किन मुद्दों पर हुई चर्चा
बता दें कि जी-7 देशों के नेताओं ने प्रवासन पर भी ध्यान केंद्रित किया। साथ ही, मानव तस्करी से निपटने और उन देशों में निवेश बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की, जहां से प्रवासी अक्सर जान खतरे में डालकर यात्रा शुरू करते हैं। इटली के दक्षिणी क्षेत्र पुगलिया में लक्जरी रिसॉर्ट में आयोजित इस सम्मेलन में कई प्रमुख विषयों पर भी चर्चा हुई। इनमें यूक्रेन को वित्तीय सहायता, गाजा युद्ध, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, जलवायु परिवर्तन, चीन की औद्योगिक नीति और आर्थिक सुरक्षा शामिल है। हालांकि, शिखर सम्मेलन के अंतिम घोषणापत्र को लेकर भी कुछ मतभेद उभरे, जिसमें गर्भपात के संदर्भ को शामिल करने पर असहमति की खबर भी आई।
(एजेंसी इनपुट के साथ)