ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेश4 महीने पहले ही अकेले छोड़ दिया था, दोस्त अमेरिका पर क्यों भड़के नेतन्याहू

4 महीने पहले ही अकेले छोड़ दिया था, दोस्त अमेरिका पर क्यों भड़के नेतन्याहू

हमास के साथ जारी जंग के बीच इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू दोस्त कहे जाने अमरीका पर भड़क गए हैं। उन्होंने कहा है कि अमेरिका ने उन्हें 4 महीने पहले ही हथियार देना कम कर दिया था।

4 महीने पहले ही अकेले छोड़ दिया था, दोस्त अमेरिका पर क्यों भड़के नेतन्याहू
joe biden
Jagritiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 24 Jun 2024 09:07 AM
ऐप पर पढ़ें

हमास के साथ जारी जंग के बीच इजरायल ने अमेरिका पर दगा देने का आरोप लगा दिया है। इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू का कहना है कि अमेरिका ने 4 महीने पहले ही हथियारों की आपूर्ति कम कर दी थी। रविवार को साप्ताहिक कैबिनेट बैठक की शुरुआत में नेतन्याहू ने पिछले सप्ताह हथियारों की खेप रोकने के लिए अमेरिका की आलोचना करते हुए एक वीडियो जारी करने के अपने फैसले का बचाव किया है। उन्होंने कहा है कि समस्या को हल करने के दूसरे तरीके के विफल होने के बाद ही उन्होंने सार्वजनिक रूप से यह बात कही थी।

हमास के खिलाफ युद्ध के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के समर्थन के लिए शुक्रिया अदा करने के बाद, नेतन्याहू ने आरोप लगाया कि चार महीने पहले, इजरायल को हथियारों की सप्लाई में भारी गिरावट हुई थी। नेतन्याहू ने कहा, "कई हफ्तों तक, हमने अपने अमेरिकी दोस्तों से शिपमेंट में तेजी लाने की अपील की। हमने इसे वरिष्ठ अधिकारियों और सभी स्तरों पर किया, और मैं इस बात पर जोर देना चाहता हूं - हमने इसे निजी कक्षों में किया। हमें सभी तरह के स्पष्टीकरण मिले, लेकिन स्थिति नहीं बदली।" व्हाइट हाउस ने नेतन्याहू के दावे को खारिज किया है। अमेरिका ने कहा है कि उसने भारी बमों की केवल एक खेप रोकी है, जिसको लेकर उसे चिंता थी कि इजरायल घनी आबादी वाले राफा में इसका इस्तेमाल करेगा। अमेरिका का कहना है कि बाकी हथियारों को सामान्य तरीके से भेजा गया है।

शिपमेंट में कोई रोक नहीं लगाई गई है- अमेरिका

नेतन्याहू ने अभी तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि अमेरिका ने कथित तौर पर किन हथियारों की खेप को रोक रखा है। मामले से परिचित एक सूत्र ने बताया कि शिपमेंट में कोई रोक नहीं लगाई गई है। हालांकि, युद्ध की शुरुआत में हथियारों के तेज गति से भेजने के लिए आपातकालीन प्रक्रियाएँ अब लागू नहीं हैं। बाइडेन प्रशासन को इस बात की चिंता है कि इज़राइल क्षेत्रीय युद्ध को भड़का सकता है। व्हाइट हाउस ने पिछले सप्ताह नेतन्याहू की आलोचना पर निराशा व्यक्त की थी। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने पिछले सप्ताह संवाददाताओं से कहा, "यह हैरान करने वाला और निश्चित रूप से निराशाजनक था। खासकर यह देखते हुए कि कोई भी अन्य देश हमास के खतरे से इजरायल की ज्यादा मदद नहीं कर रहा है।"

नेतन्याहू ने रविवार को कैबिनेट बैठक के दौरान कहा, "स्थिति में कई महीनों तक कोई बदलाव न होने के बाद, मैंने इसे सार्वजनिक रूप से व्यक्त करने का फैसला किया।" उन्होंने कहा कि उनके "वर्षों के अनुभव" ने उन्हें सिखाया है कि ऐसा करने से मदद मिल सकती है। नेतन्याहू ने कहा, "मैं इजरायल की सुरक्षा के लिए व्यक्तिगत हमलों को झेलने के लिए तैयार हूं," और कहा कि उन्हें विश्वास है कि यह मुद्दा जल्द ही सुलझ जाएगा।

"अकेले खड़ा होना पड़ा, तो हम अकेले खड़े होंगे"

अरकंसास के रिपब्लिकन सीनेटर टॉम कॉटन ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने लड़ाकू विमानों, टैक्टिकल व्हीकल, मोर्टार, टैंक के गोले और अन्य हथियारों की डिलीवरी को भी रोक दिया है। पिछले महीने, जब बाइडेन ने धमकी दी कि अगर इज़राइल ने राफा में अपना नियोजित आक्रमण शुरू किया तो कुछ अतिरिक्त हथियारों की सप्लाई रोक दिए जाएँगे, नेतन्याहू ने कसम खाई कि अगर इज़राइल को "अकेले खड़ा होना पड़ा, तो हम अकेले खड़े होंगे।" अमेरिका लंबे समय से अपने सबसे करीबी इजरायल के लिए सबसे बड़ा हथियार सप्लायर रहा है।